कर्नाटक में कोविड-19 पर गठित समिति ने दिसंबर में स्कूलों को नहीं खोलने की सिफारिश की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 23, 2020   15:32
कर्नाटक में कोविड-19 पर गठित समिति ने दिसंबर में स्कूलों को नहीं खोलने की सिफारिश की

कोविड-19 को लेकर तकनीकी सलाहकार समिति (टीएसी) की रविवार को हुई बैठक में कहा गया ‘‘व्यापक विचार-विमर्श के बाद सर्वसम्मति से फैसला किया गया कि दिसंबर में स्कूलों को नहीं खोलने की सिफारिश की जाए।’’

बेंगलुरु। कर्नाटक में कोविड-19 के लिए तकनीकी परामर्श समिति ने राज्य सरकार से दिसंबर में स्कूलों को नहीं खोलने की सिफारिश की है। स्कूलों को खोले जाने के संबंध में मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा सोमवार को महत्वपूर्ण बैठक लेंगे और वह समिति की सिफारिशों पर गौर करेंगे। कोविड-19 को लेकर तकनीकी सलाहकार समिति (टीएसी) की रविवार को हुई बैठक में कहा गया ‘‘व्यापक विचार-विमर्श के बाद सर्वसम्मति से फैसला किया गया कि दिसंबर में स्कूलों को नहीं खोलने की सिफारिश की जाए।’’ समिति ने कहा कि दिसंबर के अंतिम सप्ताह में कोविड-19 की स्थिति की समीक्षा की जाएगी और उचित समय पर स्कूलों को खोलने के संबंध में विचार किया जाएगा।

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस की अनुशासनात्मक समिति विधायक मूर्ति की अर्जी पर करेगी गौर: शिवकुमार

राज्य के व्यापक जनहित में विचार-विमर्श कर सरकार को यह सिफारिश दी गयी है। कोविड-19 की रोकथाम के लिए मार्च में राष्ट्रीय स्तर पर लॉकडाउन लागू होने के बाद से ही स्कूल बंद हैं। डॉ. के एम सुदर्शन की अध्यक्षता में समिति की बैठक में कहा गया कि राज्य में कोविड-19 के मामले घट रहे हैं। लेकिन, दिल्ली, हरियाणा, गुजरात, राजस्थान तथा अन्य राज्यों में बढ़ रहे मामलों को भी जिक्र किया गया। मुख्यमंत्री येदियुरप्पा और प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षा मंत्री एस सुरेश कुमार स्कूलों को फिर से खोलने के संबंध में शिक्षा विभाग और अन्य सरकारी अधिकारियों के साथ बैठक करने वाले हैं।बैठक के पहले येदियुरप्पा ने कहा, ‘‘समिति की बैठक में जताए गए विचार का संज्ञान लेते हुए हम फैसला करेंगे। हम इस पर चर्चा करेंगे और इस बारे में घोषणा की जाएगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।