कांग्रेस ने दायर की हाई कोर्ट में याचिका, कहा- वीवीपैट पर्ची की गिनती कराई जाए

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Dec 7 2018 9:21AM
कांग्रेस ने दायर की हाई कोर्ट में याचिका, कहा- वीवीपैट पर्ची की गिनती कराई जाए
Image Source: Google

छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने बृहस्पतिवार को उच्च न्यायालय में एक याचिका दाखिल कर अनुरोध किया है कि चुनाव आयोग के दिशानिर्देश का सख्ती से पालन कराया जाये तथा सभी निर्वाचन क्षेत्रों में कम से कम 50 फीसदी मतदान केंद्रों में वीवीपैट (वोटर वेरीफ़ाएबल पेपर ऑडिट ट्रेल) पर्ची की गिनती सुनिश्चित की जाए।

बिलासपुर। छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने बृहस्पतिवार को उच्च न्यायालय में एक याचिका दाखिल कर अनुरोध किया है कि चुनाव आयोग के दिशानिर्देश का सख्ती से पालन कराया जाये तथा सभी निर्वाचन क्षेत्रों में कम से कम 50 फीसदी मतदान केंद्रों में वीवीपैट (वोटर वेरीफ़ाएबल पेपर ऑडिट ट्रेल) पर्ची की गिनती सुनिश्चित की जाए। प्रदेश कांग्रेस के महासचिव गिरीश देवांगन की ओर से दाखिल की गई इस याचिका को उच्च न्यायालय ने सुनवाई के लिए स्वीकार कर लिया है। मामले की सुनवाई मतगणना के एक दिन पूर्व 10 दिसम्बर को होगी।

इसे भी पढ़ें: पूर्वोत्तर राज्यों में चुनाव की तारीखों का ऐलान, EVM के साथ होगा वीवीपैट का इस्तेमाल

अधिवक्ता सतीश चन्द्र वर्मा ने बताया कि छत्तीसगढ़ में विगत माह सम्पन्न हुए विधानसभा चुनाव में मतदान के बाद ईवीएम से छेड़छाड़ की शिकायतें मिलने के बाद न्यायालय में एक रिट याचिका दायर की गई है। याचिका में चुनाव आयोग के दिशानिर्देश का सख्ती से पालन करने और मतगणना के दौरान सभी निर्वाचन क्षेत्रों में कम से कम 50 फीसदी मतदान केंद्रों में वीवीपैट से निकली पर्ची की गिनती सुनिश्चित करने की मांग की गई है। याचिका में दावा किया गया है कि राज्य में ईवीएम की सुरक्षा में चूक हुई है। इसी तरह की कई और शिकायतें भी हैं। याचिका में यह मांग भी की गई है कि स्ट्रांग रूम और इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन की सुरक्षा को पुख्ता किया जाए तथा चुनाव के दौरान उपयोग में लायी गई इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन और उपयोग में नहीं लाई गई वोटिंग मशीन को अलग अलग किया जाए।

वर्मा ने बताया कि याचिका में यह भी अनुरोध किया गया है कि पहले राउंड की मतगणना और उसके नतीजे की घोषणा होने के बाद ही दूसरे राउंड की प्रक्रिया संपन्न कराई जाए। मतदान तथा मतगणना प्रक्रिया में मौजूदा राज्य और केंद्रीय मंत्रियों द्वारा सत्ता का दुरुपयोग करने से रोका जाए। छत्तीसगढ़ में 90 विधानसभा क्षेत्रों के लिए दो चरणों में 12 और 20 नवंबर को मतदान संपन्न हुआ था। मतगणना के लिए आगामी 11 दिसंबर की तिथि निर्धारित है। मतदान के बाद से ही कांग्रेस लगातार ईवीएम की सुरक्षा का मुद्दा उठाती रही है। कांग्रेस ने इस मामले में छत्तीसगढ़ के अनेक विधानसभा क्षेत्रों से शिकायतें भी दर्ज कराई है।



इसे भी पढ़ें: सम्मानजनक हार के लिए BJP ने की रैलियां, सचिन ने कहा- जनता हमारे साथ है

राज्य के धमतरी और बेमेतरा जिले में ईवीएम से छेड़छाड़ की आशंका की शिकायत भी की गई थी। धमतरी के तहसीलदार को इस मामले में निलंबित भी किया गया है। कांग्रेस वीवीपैट पर्ची के जरिये भी गिनती की मांग करती रही है।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप