न्यायाधीशों को महाभियोग के नाम पर डराकर राम मंदिर की सुनवाई रुकवाती है कांग्रेस: मोदी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 25, 2018   16:00
न्यायाधीशों को महाभियोग के नाम पर डराकर राम मंदिर की सुनवाई रुकवाती है कांग्रेस: मोदी

उन्होंने कहा कांग्रेस उच्चतम न्यायालय के बडे़ वकीलों को राज्यसभा का सदस्य बनाती है और वे सदस्य उन न्यायाधीशों को महाभियोग के नाम से डराने का नया खेल खेल रहे हैं जो न्यायाधीश उनके राजनैतिक इरादों के अनुसार कार्य नहीं करते।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कांग्रेस पर रविवार को आरोप लगाया कि उसने उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीशों के खिलाफ महाभियोग के नाम से डराने का एक नया और खतरनाक खेल शुरू किया है। उन्होंने यह भी कहा कि जातिवाद के जहर को कांग्रेस आज भी छोड़ नहीं पाई है। मोदी ने राजस्थान के अलवर में एक चुनावी रैली में कहा कि कांग्रेस उच्चतम न्यायालय के बडे़ वकीलों को राज्यसभा का सदस्य बनाती है और वे सदस्य उन न्यायाधीशों को महाभियोग के नाम से डराने का नया खेल खेल रहे हैं जो न्यायाधीश उनके राजनैतिक इरादों के अनुसार कार्य नहीं करते।

उच्चतम न्यायालय में अयोध्या मामले की सुनवाई का उल्लेख करते हुए मोदी ने कहा कि जब यह मामला चल रहा था, तब कांग्रेस के नेता और राज्यसभा के एक सदस्य ने कहा था कि 2019 तक केस मत चलाओ, क्योंकि 2019 में चुनाव है। ‘‘देश के न्यायतंत्र को इस तरह राजनीति में घसीटना ठीक है क्या? ’’ प्रधानमंत्री ने कहा, ‘'जब उच्चतम न्यायालय का कोई न्यायाधीश अयोध्या जैसे गंभीर संवेदनशील मसलों सबका पक्ष सुनना चाह रहे थे तो कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य और वकील न्यायालय के न्यायाधीशों के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव लाकर उन्हें डरा धमका रहे थे।'’ 

मोदी ने कहा कि कांग्रेस के इस नये खेल के संबंध में वह देश के बुद्धिजीवियों से, राष्ट्र के उज्जवल भविष्य के लिये गंभीरतापूर्वक इसे कसौटी पर कसने का अनुरोध करते हैं। प्रधानमंत्री ने आरोप लगाया कि कांग्रेस का न्यायपालिका में भरोसा नहीं है, लेकिन ‘‘हम यह काला कारनामा लोकतंत्र के मंदिर में नहीं होने देंगे।’’ मोदी ने कांग्रेस पर जातिगत राजनीति करने का आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस वालों ने हिन्दुस्तान को तोड़ा है। उन्होंने कहा कि आज कांग्रेस पार्टी दिन प्रतिदिन इतनी नीचे गिरती जा रही है कि उन्होंने राजनीति के संस्कार ही छोड़ दिये, शिष्टाचार भूल गये और चुनाव में विकास के मुद्दों पर बहस करने के लिये वे अपनी हिम्मत भी खो चुके हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस एक ‘अहंकारी’ पार्टी है, जिसके पास विकास के एजेंडा पर चर्चा करने का साहस ही नहीं है। 

प्रधानमंत्री ने कांग्रेस को उसकी पिछली सरकार के पांच साल के कार्यों और वर्तमान वसुंधरा सरकार के कार्यकाल के कार्यों की तुलना करने की चुनौती देते हुए कहा ‘‘पिछली सरकार के पांच साल का हिसाब इतना बुरा है कि कांग्रेस में वसुंधरा सरकार के पांच साल को कामों को देखने की भी हिम्मत नहीं है।’’  उन्होंने कहा, '‘जब आपके कामों का कोई हिसाब नहीं हो, कोई विजन नहीं हो और खुद आपकी पार्टी के भीतर जारी जंग का कोई हल न हो तब चुनाव का मुद्दा बनता है कि मोदी की जाति कौन सी है? आप इसके आधार पर वोट करेंगे क्या? मोदी का जन्म कहीं भी हुआ हो, क्या राजस्थान का भविष्य उससे तय होगा?’’ उन्होंने कहा ‘‘ जातिवाद के जहर को कांग्रेस आज भी छोड़ नहीं पाई है। कांग्रेस का मूल स्वभाव उनकी वाणी व स्वभाव में झलकता है। गरीबों, दलितों और शोषितों के प्रति नफरत का भाव कांग्रेस की रगों में है। कांग्रेस के दिग्गज नेता बाबा साहेब आंबेडकर के समय से गलत भाषा का प्रयोग करते रहे हैं।’’

प्रधानमंत्री ने भारत रत्न को लेकर कहा, '‘बाबा साहब आंबेडकर को भारत रत्न मिलना चाहिए था, लेकिन कांग्रेस को सुध नहीं आई। यह कांग्रेस की जातिवादी मानसिकता है। एक ही परिवार के चार लोगों को भारत रत्न देकर दीवार पर चिपका दिए गए और इन्हें बाबा साहब की याद नहीं आई।'’ उन्होंने कहा, 'यह कांग्रेस की जातिवादी मानसिकता है। मंडल कमीशन के खिलाफ राजीव गांधी ने जिस भाषा का प्रयोग किया था, वह आज भी संसद में गूंजती रही है।' मोदी ने कहा कि 2013 के विधानसभा चुनाव में उन्होंने चुनावी अभियान की शुरूआत अलवर से की थी और आज फिर अलवर से राजस्थान चुनाव यात्रा शुरू कर रहे हैं। 

उन्होंने कहा ‘‘मैंने देखा है कि देश का हर नागरिक एक ही मंत्र के साथ यह चुनाव देख रहा है और वह विकास का मंत्र है। हर कोई पिछली सरकार को याद करके भाजपा विकास की यात्रा को आशीर्वाद दे रहा है। अलवर की धरती गौरव की है और अहंकार को चूर-चूर करने वाली है। यहां मौजूद जनसैलाब बता रहा है कि नामदारों का अहंकार अलवर चकनाचूर कर देगा।’’ मोदी ने वसुंधरा राजे सरकार की प्रशंसा करते हुए कहा कि प्रदेश भाजपा सरकार ने विकास के कई काम किये है और विकास कार्यो के आधार पर प्रदेश में फिर से भाजपा की सरकार बनेगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी के नेता विकास के मुद्दे पर बहस नहीं सकते। 

उन्होंने कहा ‘‘कांग्रेस सरकार ने पिछले 60 सालों में देश में 13 लाख एलपीजी गैस कनेक्शन दिये जबकि हमने अपने चार साल के कार्यकाल में 12 लाख एलपीजी गैस कनेक्शन दिये हैं। हमने कांग्रेस शासन में लंबित 'वन रैंक वन पैंशन' के मुद्दे को हल किया।’’ मोदी ने कांग्रेस उम्मीदवार बीडी कल्ला के हाल ही में वायरल हुए एक वीडियो को लेकर भी हमला बोला जिसमें कल्ला अपने समर्थकों को कथित तौर पर भारत माता की जय बोलने से रोकते हुए नजर आए और बाद में समर्थक सोनिया गांधी की जय बोल रहे थे। मोदी ने कहा ‘‘हमारे लिये देश बड़ा है लेकिन उनके लिये भारत माता की जगह सोनिया गांधी बड़ी हैं।’’ 

प्रधानमंत्री ने पूर्व उपराष्ट्रपति दिवंगत भैंरों सिंह शेखावत सहित कई वरिष्ठ नेताओं को याद करते हुए कहा कि उन्होंने 2013 के विधानसभा चुनाव अभियान की शुरूआत अलवर से ही की थी। इस अवसर पर मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और अलवर क्षेत्र में आने वाली 11 विधानसभा क्षेत्रों के उम्मीदवार सहित पार्टी के अन्य नेता मौजूद थे। अलवर में इस वर्ष के शुरू में लोकसभा उपचुनाव में भाजपा की हार के बाद प्रधानमंत्री की इस यात्रा से पार्टी को अलवर क्षेत्र में मजबूती मिलने की संभावना है। 2013 के विधानसभा चुनाव में अलवर में भाजपा ने 11 सीटों में से 9 सीटों पर विजय दर्ज की थी। इस वर्ष अप्रैल में भाजपा के मौजूदा विधायक धर्मपाल चौधरी का निधन हो गया था पार्टी ने उनके पुत्र मनजीत चौधरी को मुंडावर विधानसभा सीट से टिकट दिया है। 

भाजपा ने अन्य आठ सीटों पर मौजूदा विधायक रामहेत यादव (किशनगढ़बास), को छोड़कर हेम सिंह भडाना, ज्ञानदेव आहूजा, बनवारी लाल सिंघल और मामन सिंह यादव सहित सात मौजूदा विधायकों की जगह नये चेहरे को टिकट दिया है। मरू भूमि के पूर्वी हिस्से में स्थित अलवर हरियाणा की सीमा से लगा हुआ है। यहां के मेवात क्षेत्र में मेव जाति :मुस्लिम: लोग की खासी संख्या है। अलवर जयपुर, भरतपुर और दौसा जिलों की सीमाओं से लगा हुआ है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।