भाजपा का पत्ता साफ, कांग्रेस को मिलेगा राजस्थान की जनता का साथ

congress-may-get-support-of-the-people-of-rajasthan
अंकित सिंह । Aug 14, 2018 2:43PM
साल के अंत में देश के तीन राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर अलग-अलग सर्वे आ रहे हैं पर एक सर्वे ऐसा आया है जो भाजपा के लिए किसी सदमे से कम नहीं है।

जयपुर। साल के अंत में देश के तीन राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर अलग-अलग सर्वे आ रहे हैं पर एक सर्वे ऐसा आया है जो भाजपा के लिए किसी सदमे से कम नहीं है। जी हां, हम बात कर रहे है सी वोटर के उस सर्वे की जिसमें भाजपा को मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में सत्ता से बाहर होते हुए दिखाया गया है। सोमवार को जारी हुए इस ओपिनियन पोल में जनता की पहली पसंद कांग्रेस बताई जा रही है और कहा गया है कि भाजपा के खिलाफ लोगों में खासी नाराजगी है।

बात राजस्थान की करे तो यहां की 200 विधानसभा सीटों पर भाजपा और कांग्रेस के बीच कांटे की टक्कर रहती है। साथ ही साथ यहा हर पांच साल में सत्ता परिवर्तन भी होता रहता है, पर इस बार राजनीतिक विशेषज्ञ यह मान रहे थे कि मोदी मैजिक के बदौलत भाजपा राज्य की सत्ता में वापसी कर सकती है। लेकिन, पहले लोकसभा उपचुनाव और बाद में इस सर्वे ने भाजपा के नेताओं की नींद उड़ा दी है। वहीं इस सर्वे से गदगद कांग्रेस अपनी तैयारियों को और मजबूत करने में जुट गई है। इस सर्वे में कांग्रेस को 200 सीटो में से कांग्रेस को 130 सीटें मिलती दिख रही हैं तो भाजपा को बड़ा नुकसान हो रहा है और महज 57 सीटें ही मिलने का अनुमान है। 

कांग्रेस के लिए राहत की एक और बात है कि राजस्थान से लगातार गुटबाजी की खबरें आ रही थी पर अब इस सर्वे से शायद उन्हें एक होकर लड़ने की प्रेरणा मिले। वहीं, सबसे ज्यादा झटका वसुंधरा राजे के लिए है क्योंकि अगर वह चुनाव हार जाती हैं तो उनका आगे का सफर कैसा होगा? वहीं, राजस्थान भाजपा में उनके खिलाफ लगातार बगावती सुर बुलंद होते हुए दिखाई दे रहे है। 

कुल सीट- 200

बहुमत- 101

पार्टी अनुमानित सीटें वर्तमान सीटें
भाजपा 57 160
कांग्रेस 130 25
अन्य 13 15

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़