सिंघू बॉर्डर पर कांग्रेस सांसद बिट्टू पर हुआ हमला, फेसबुक पर लिखी पोस्ट, बोले- पगड़ी खींची गई

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 25, 2021   08:26
सिंघू बॉर्डर पर कांग्रेस सांसद बिट्टू पर हुआ हमला, फेसबुक पर लिखी पोस्ट, बोले- पगड़ी खींची गई

कांग्रेस सांसद रवनीत सिंह बिट्टू ने कहा, ‘‘कुछ शरारती तत्वों ने, जिनके इरादे अज्ञात हैं, हम तीनों पर जानलेवा हमला कर माहौल बिगाड़ने की कोशिश की।’’ बिट्टू पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह के पोते हैं।

चंडीगढ। कांग्रेस सांसद रवनीत सिंह बिट्टू पर रविवार को सिंघू बॉर्डर पर एक ‘‘जन संसद’’ कार्यक्रम के दौरान कथित तौर पर हमला किया गया, उन्हें धक्का दिया गया और उनकी पगड़ी खींची गई। उन्होंने इसे कुछ शरारती तत्वों द्वारा किया गया जानलेवा हमला बताया है। लुधियाना से सांसद बिट्टू के वाहन को भी गुरू तेग बहादुर जी स्मारक पर क्षतिग्रस्त कर दिया गया, जहां वह कांग्रेस के अमृतसर से सांसद गुरजीत सिंह औजला और पार्टी के विधयक कुलबीर सिंह जीरा के साथ कार्यक्रम में शामिल होने गये थे। 

इसे भी पढ़ें: ट्रैक्टर रैली में कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन दर्शाएंगी झांकियां, 2500 स्वयंसेवकों को किया गया तैनात 

बिट्टू ने फेसबुक पर एक पोस्ट में कहा, ‘‘कुछ शरारती तत्वों ने, जिनके इरादे अज्ञात हैं, हम तीनों पर जानलेवा हमला कर माहौल बिगाड़ने की कोशिश की।’’ बिट्टू पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह के पोते हैं। केंद्र के नये कृषि कानूनों के विरोध में बिट्टू, औजला और जीरा दिल्ली के जंतर मंतर पर पिछले कई दिनों से प्रदर्शन कर रहे हैं। बिट्टू ने दावा किया है कि कुछ लोगों ने स्मारक के पास उन्हें धक्का दिया और उनकी पगड़ी खींची। उन्होंने इस घटना को जानलेवा हमला जैसा करार दिया है। बिट्टू को गुस्साये प्रदर्शनकारियों ने भी धक्का दिया और अपमानित किया। जीरा ने भी कुछ शरारती तत्वों पर हमले का आरोप लगाते हुए कहा है कि किसान ऐसी गतिविधि में संलिप्त नहीं रहे होंगे। बिट्टू पर हमले का कारण तत्काल स्पष्ट नहीं हुआ।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।