मध्य प्रदेश सरकार अगले महीने से 6 से 8 की कक्षाओं के लिए स्कूलों को फिर से खोलने पर विचार कर रही है

mp
सरकार ने इससे पहले जुलाई के अंतिम सप्ताह में प्रदेश में 9 से 12 तक की कक्षाओं के लिए स्कूलों को 50 प्रतिशत उपस्थिति और सप्ताह में तय दिनों की शर्त के साथ फिर से खोल दिया है।

भोपाल। मध्य प्रदेश के स्कूली शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार ने कहा कि प्रदेश सरकार अगले माह से कक्षा छह से आठ तक के लिए स्कूलों को फिर से खोलने पर विचार कर रही है। सरकार ने इससे पहले जुलाई के अंतिम सप्ताह में प्रदेश में 9 से 12 तक की कक्षाओं के लिए स्कूलों को 50 प्रतिशत उपस्थिति और सप्ताह में तय दिनों की शर्त के साथ फिर से खोल दिया है। परमार से ‘पीटीआई-भाषा’ से बात करते हुए कहा, ‘‘ हमने अगले महीने के मध्य से विद्यालयों (कक्षा 6 से 8 तक) को फिर से खोलने का मन बना लिया है जो कि कोरोना वायरस संक्रमण के एहतियात के कारण फिलहाल बंद हैं।

इसे भी पढ़ें: बीमारी के कारण पैरालंपिक की एक स्पर्धा में हिस्सा नहीं ले पाएंगो तैराक जाधव: अधिकारी

लेकिन हम इसे लेकर अतिरिक्त सतर्क हैं और महामारी को देखते हुए इस पर निर्णय करेंगे।’’ स्कूली शिक्षा मंत्री का बयान ऐसे समय आया है जब प्रदेश के निजी स्कूल सभी कक्षाओं के लिए स्कूल फिर से खोलने की मांग कर रहे हैं। मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल से संबद्ध कम से कम 45000 निजी स्कूलों ने कोविड-19 के सुरक्षा संबंधी उपायों के अनुपालन के साथ सभी कक्षाओं के लिए स्कूल फिर से खोलने की मांग को लेकर दो सितंबर से प्रदेश भर में धरना प्रदर्शन करने की घोषणा की है। परमार ने कहा कि वह स्कूलों को फिर से खोलने की योजना पर इस महीने के अंत तक मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मंजूरी लेंगे।

इसे भी पढ़ें: UP सरकार के मंत्री ब्रजेश पाठक ने कुल 152 कार्यों का किया लोकार्पण

उन्होंने कहा, ‘‘ माध्यमिक स्कूलों को सप्ताह के तय दिनों में विद्यार्थियोंकी सीमित संख्या के साथ खोलने की हमारी योजना है। इसके बाद हम प्राथमिकविद्यालयों की कक्षाओं को सुरक्षा उपायों के साथ फिर से शुरु करने के बारेमें सोचेंगे।’’ मध्य प्रदेश प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन (एमपीपीएसए) द्वारा सभी कक्षाओं के लिए स्कूलों को तुरंत फिर से खोलने की मांग के बारे में पूछे जाने पर, परमार ने कहा कि सरकार उस तरह से सोच रही है लेकिन साथ ही कोरोना वायरस संक्रमण की स्थिति को भी ध्यान में रखना है। उन्होंने कहा कि सरकार कक्षा 9 से 11 के विद्यार्थियों के लिए कक्षा के सप्ताह में निर्धारित दिनों की संख्या बढ़ाने के बारे में भी सोच रही है।

एमपीपीएसए के अध्यक्ष अजीत सिंह ने बृहस्पतिवार को पीटीआई-को बतायाकि एसोसिएशन चाहता है कि सभी कक्षाओं के लिए मानक संचालक प्रक्रिया के साथस्कूल फिर से तुरंत खोल दिए जाएं। सिंह ने कहा, ‘‘एसोसिएशन सप्ताहके अलग-अलग दिनों में होने वाली कक्षा 9 से कक्षा 12 के छात्रों के लिएऑनलाइन या भौतिक मौजूदगी वाली कक्षाओं को स्थगित नहीं कर रहा है।’’ एमपीपीएसए की मांग कि प्रदेश सरकार शिक्षा के अधिकार (आरटीई) के तहत वंचितबच्चों को शिक्षा प्रदान करने वाले निजी स्कूलों का बकाया भुगतान करे, इससवाल पर मंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार ने उन संस्थानों का भुगतान नहींकिया है जिन्होंने अपनी कागजी कार्रवाई पूरी नहीं की है।

परमार ने कहा, ‘‘ इस साल की बकाया राशि की समस्या उत्पन्न न हो यह सुनिश्चित करने के लिए एक प्रणाली बनाई जाएगी।’’ निजी स्कूलों पर अगले माह विरोध प्रदर्शन करने के सवाल पर परमार ने कहा कि लोकतंत्र में उन्हें ऐसा करने की स्वतंत्रता है। उन्होंने कहा, ‘‘ हमारी जिम्मेदारी है। यदि कोरोना वायरस के कारण किसीबच्चे को कुछ होता है तो स्कूल और सरकार को उसके असर का सामना करनापड़ेगा।’’ स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया किमध्य प्रदेश में बुधवार को कोरोना वायरस संक्रमण के पांच नए मामले दर्ज हुए हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़