असम में ‘क्रूरता’ पर स्वत: संज्ञान ले अदालत : सिब्बल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 26, 2021   05:09
असम में ‘क्रूरता’ पर स्वत: संज्ञान ले अदालत : सिब्बल
प्रतिरूप फोटो

कपिल सिबल ने शनिवार को अपने ट्वीट में कहा है कि, ‘‘असम-- निकाले जाने का विरोध करने वालों के खिलाफ क्रूरता की सोशल मीडिया पर उपलब्ध बर्बर तस्वीरों ने मुझे हिला कर रख दिया है। हमारी सरकार की चुप्पी ने मेरा दिल तोड़ दिया है।’’

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने शनिवार को कहा कि अदालतों को असम में ‘क्रूरता’ पर स्वत: संज्ञान लेना चाहिए। सिब्बल का यह बयान पुलिस और कथित रूप से अवैध कब्जा करने वालों के बीच हुई झड़प की पृष्ठभूमि में आया है जिसमें दो लोगों की मौत हो गई थी जबकि 20 लोग घायल हो गए थे।

असम के दरांग जिले के गुरूखुटी गांव में बृहस्पतिवार को अतिक्रमण विरोधी अभियान के दौरान उक्त घटना हुई। सिब्बल ने यह भी कहा कि इसपर सरकार की चुप्पी दिल दुखाने वाली है।

इसे भी पढ़ें: चुनाव बाद हिंसा की जांच के लिए गठित एनएचआरसी समिति पर बंगाल सरकार ने न्यायालय में सवाल उठाए

उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘असम-- निकाले जाने का विरोध करने वालों के खिलाफ क्रूरता की सोशल मीडिया पर उपलब्ध बर्बर तस्वीरों ने मुझे हिला कर रख दिया है। हमारी सरकार की चुप्पी ने मेरा दिल तोड़ दिया है।’’ सिब्बल ने मांग की, ‘‘जांच कोई जवाब नहीं है। अदालत को स्वत: संज्ञान लेने की आवश्यकता है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।