तालाब में नहा रहे 8 साल के बच्चे को मगरमच्छ ने बनाया अपना निवाला, ग्रामीणों ने सड़क किया जाम

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 8, 2022   14:30
तालाब में नहा रहे 8 साल के बच्चे को मगरमच्छ ने बनाया अपना निवाला, ग्रामीणों ने सड़क किया जाम
Unsplash

उत्तर प्रदेश के बहराइच में मगरमच्छ ने आठ साल के बच्चे को अपना निवाला बनाया। रात करीब 12 बजे के बाद बच्चे का क्षत-विक्षत शव बरामद हो सका है। पुलिस सूत्रों ने रविवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इस घटना के विरोध में स्थानीय ग्रामीणों नेसड़क पर रास्ता जाम कर प्रदर्शन किया।

बहराइच (उत्तर प्रदेश)।कतर्नियाघाट जंगल से सटे गूढ़ गांव के एक तालाब में शनिवार को नहा रहे आठ वर्षीय बालक को मगरमच्छ खींच कर ले गया। रात करीब 12 बजे के बाद बच्चे का क्षत-विक्षत शव बरामद हो सका है। पुलिस सूत्रों ने रविवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इस घटना के विरोध में स्थानीय ग्रामीणों ने सड़क पर रास्ता जाम कर प्रदर्शन किया। पुलिस सूत्रों ने रविवार को बताया कि मोतीपुर थाना क्षेत्र स्थित गूढ़ इलाके का निवासी वीरेंद्र (आठ) शनिवार दोपहर अपनी छोटी बहन के साथ कतर्नियाघाट जंगल किनारे स्थित तालाब पर गया था।

इसे भी पढ़ें: यूपी के अवैध पटाखा फैक्ट्री में विस्फोट, मरने वालों की संख्या बढ़कर 5 हुई

उन्होंने बताया कि वीरेंद्र तालाब में नहा रहा था तभी एक मगरमच्छ ने उसका पैर पकड़ लिया और खींचकर गहरे पानी में ले गया। उन्होंने बताया कि तालाब किनारे खड़ी छोटी बहन का शोर सुनकर जब तक आसपास मौजूद ग्रामीण मौके पर पहुंचते तब तक मगरमच्छ बच्चे को लेकर गहरे पानी में ओझल हो गया। घटनास्थल पर पहुंचे ग्रामीणों ने नानपारा-लखीमपुर मार्ग पर रास्ता जाम कर प्रदर्शन किया। ग्रामीणों की मांग थी कि तालाब में मौजूद मगरमच्छ को पकड़कर अन्यत्र ले जाया जाए। बहरहाल, पुलिस ने ग्रामीणों को समझा-बुझाकर जाम खुलवाया। प्रभागीय वनाधिकारी आकाशदीप बधावन के अनुसार दस घंटे के अथक प्रयासों के बाद देर रात करीब 12 बजे बच्चे का क्षत-विक्षत शव बरामद हो सका। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। उन्होंने बताया कि मगरमच्छ को पकड़ने के लिए तालाब के चारों तरफ जाल लगाया गया है। मगरमच्छ को पकड़कर उसे जंगल से बहने वाली नदी में छोड़ा जायेगा, जिससे दोबारा ऐसी घटना ना हो।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।