सीआरपीएफ ने असम-मिजोरम के बीच राष्ट्रीय राजमार्ग पर गश्त लगाना शुरू किया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 30, 2021   17:03
सीआरपीएफ ने असम-मिजोरम के बीच राष्ट्रीय राजमार्ग पर गश्त लगाना शुरू किया

असम-मिजोरम सीमा पर स्थिति तनावपूर्ण तो बनी हुई है लेकिन सुरक्षा बलों ने सतर्कता बढ़ाकर शांति का माहौल कायम किया हुआ है। केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के जवानों ने दोनों राज्यों के बीच राष्ट्रीय राजमार्ग 306 पर गश्त लगाना शुरू कर दिया है।

सिलचर। असम-मिजोरम सीमा पर स्थिति तनावपूर्ण तो बनी हुई है लेकिन सुरक्षा बलों ने सतर्कता बढ़ाकर शांति का माहौल कायम किया हुआ है। केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के जवानों ने दोनों राज्यों के बीच राष्ट्रीय राजमार्ग 306 पर गश्त लगाना शुरू कर दिया है। असम की बराक घाटी के अधिकारियों ने कहा कि मिजोरम जाने वाली असम की सड़कों पर संगठित नाकेबंदी हटा दी गई है और अब ट्रकों तथा वाहनों को किसी समूह द्वारा रोका नहीं जा रहा है। असम और मिजोरम के बीच सीमा पर विवादास्पद वन क्षेत्र में सोमवार को हुई झड़प के बाद, बराक घाटी में कुछ समूहों ने मिजोरम की ओर जाने वाले रास्ते को अवरुद्ध कर दिया था जिससे पडोसी राज्य के लोग नाराज थे।

इसे भी पढ़ें: सेंसेक्स में 66 अंकों की गिरावट, लाल निशान पर बंद हुआ शेयर बाजार

अधिकारियों ने कहा, “संकटग्रस्त क्षेत्रमें जाने से ट्रक चालक डर रहे हैं… और ज्यादातर ट्रक चालकों ने मिजोरम के पास सीमा पर धोलाई गांव में अपने वाहन रोक रखे हैं।” राजमार्ग पर खड़े ट्रकों की लंबी कतार के कारण अब धोलाई का बाजार वहीं से शुरू हो गया है। असम के रास्ते आपूर्ति न होने के कारण इस सप्ताह मिजोरम को त्रिपुरा के जरिये आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति हो रही है।

इसे भी पढ़ें: गहलोत सरकार के प्रदर्शन पर अजय माकन की मुहर, कहा- सभी विधायक खुश

असम सरकार ने बृहस्पतिवार को एक यात्रा परामर्श जारी कर लोगों को मिजोरम नहीं जाने की सलाह दी थी और मिजोरम में काम करने वाले असम के लोगों को अत्यंत सावधानी बरतने को कहा था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।