अपनी ही बेटी ने पिता के अकाउंट से किया हेराफेरी, जांच के दौरान हुआ खुलासा

fraud
Prabhasakshi
पिता के बैंक खाते से पैसों की हेराफेरी करने के आरोप में बेटी को गिरफ्तार किया गया।पुलिस ने बताया कि पिछले साल नवंबर एवं इस साल मार्च के बीच मोबाइल बैंकिंग के मार्फत अपने पिता के खाते से पैसे निकाल लेने के बादमहिला उनके मोबाइल से एकबारगी पासवर्ड एवं संदेश हटा देती थी ताकि उन्हें कोई संदेह न हो।

नयी दिल्ली।राष्ट्रीय राजधानी में 34 वर्षीय एक महिला को एक वित्तीय कंपनी में गिरवी रखे गये सोने को छुड़ाने के वास्ते अपने सेवानिवृत पिता के पेंशन खाते से हेराफेरी कर दो लाख रूपये निकाल लेने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने शनिवार को यह जानकारी दी। पुलिस ने बताया कि पिछले साल नवंबर एवं इस साल मार्च के बीच मोबाइल बैंकिंग के मार्फत अपने पिता के खाते से पैसे निकाल लेने के बाद महिला उनके मोबाइल से एकबारगी पासवर्ड (ओटीपी) एवं संदेश हटा देती थी ताकि उन्हें कोई संदेह न हो। एक बिजली कंपनी के 69 वर्षीय सेवानिवृत कर्मी की शिकायत पर पुलिस ने मामले की जांच शुरू की।

इसे भी पढ़ें: आध्यात्मिक सशक्तिकरण से दया और करुणा राष्ट्रीय अभियान का हुआ आगाज, लोकसभा अध्यक्ष ने कही यह बात

उन्होंने आरोप लगाया कि पिछले साल नवंबर और इस साल मार्च के बीच उनके खाते से बिना उनकी जानकारी के 2.03 लाख रूपये निकाल निकाल लिये गये। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के अनुसार शिकायतकर्ता ने यह भी कहा कि उन्हें इन लेन-देन को लेकर बैंक से कोई ओटीपी भी नहीं मिला और न ही कोई निकासी संदेश आया।

इसे भी पढ़ें: राहुल भट की हत्या के बाद से प्रदर्शन कर रहे कश्मीरी पंडितों को आतंकियों ने धमकाया

अधिकारी ने बताया कि जांच के दौरान खुलासा हुआ कि पैसे पहले ‘ई-वैलेट’ में और फिर दो बैंक खातों में अंतरित किये गये। अधिकारी के मुताबिक उनमें पहला बैंक खाता शिकायतकर्ता के दामाद एवं दूसरा खाता उनकी बेटी के नाम पर था। पुलिस उपायुक्त (उत्तरी) सागर सिंह कलसी ने बताया कि बेटी ने कबूल किया कि उसने पहले अपने पिता के एटीएम कार्ड को अपने ‘ई-वैलेट’ से जोड़ा और फिर उनके मोबाइल फोन पर आये ओटीपी का इस्तेमाल कर उनके खाते से पैसे अंतरित किये। महिला को गिरफ्तार कर लिया गया है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़