मुंडका अग्निकांड की होगी मजिस्ट्रेट जांच, मृतकों के परिजनों को 10-10 लाख रुपए देगी केजरीवाल सरकार

मुंडका अग्निकांड की होगी मजिस्ट्रेट जांच, मृतकों के परिजनों को 10-10 लाख रुपए देगी केजरीवाल सरकार
ANI Image

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा कि हमने एक हेल्प डेस्क भी लगाया है, परिजनों से संपर्क किया जा रहा है... दिल्ली सरकार की तरफ से मैंने मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए हैं। जिन लोगों की मौत हुई है, उनके परिवार को 10-10 लाख रुपए का मुआवजा दिया जाएगा। घायलों को 50-50 हज़ार का मुआवजा दिया जाएगा।

नयी दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी मुंडका स्थित चार मंजिला इमारत में लगी भीषण आग के संबंध में केजरीवाल सरकार ने मजिस्ट्रियल जांच कराने की बात कही है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को घटनास्थल का दौरा किया और कहा कि मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दे दिए गए हैं और दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा। इसके अतिरिक्त मुख्यमंत्री केजरीवाल ने मुआवजे का ऐलान भी किया है। 

इसे भी पढ़ें: मुंडका अग्निकांड: रेस्क्यू अभियान हुआ पूरा, इमारत का नहीं था एनओसी और आग बुझाने वाला कोई उपकरण 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा कि हमने एक हेल्प डेस्क भी लगाया है, परिजनों से संपर्क किया जा रहा है... दिल्ली सरकार की तरफ से मैंने मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए हैं। जिन लोगों की मौत हुई है, उनके परिवार को 10-10 लाख रुपए का मुआवजा दिया जाएगा। घायलों को 50-50 हज़ार का मुआवजा दिया जाएगा।

दोषियों को नहीं बख्शेगी सरकार

उन्होंने कहा कि जांच के नतीजे आएंगे तभी पता चलेगा कि इस घटना के लिए कौन ज़िम्मेदार है। किसी को भी बख्शा नहीं जाएगा, जांच के नतीजे आने दीजिए। दरअसल, चार मंजिला इमारत में लगी भीषण आग की वजह से कम से कम 27 लोगों की मौत हो गई है और अन्य 12 लोग झुलस गए हैं। इस संबंध में पुलिस ने पहली मंजिल में स्थित सीसीटीवी और राउटर कंपनी के मालिक को हिरासत में लिया है। 

इसे भी पढ़ें: चार मंजिला इमारत में भीषण आग, 27 लोग जिंदा जले, अपनों को तलाशती रही आंखें 

पश्चिम दिल्ली के एडीएम धर्मेंद्र कुमार ने बताया कि जिन लोगों को हल्की चोटें आई थी, उन्हें प्राथमिक उपचार के बाद छोड़ दिया गया। जो 27 मृतक थे, उन्हें संजय गांधी अस्पताल ले जाया गया। उनके परिजनों से हम संपर्क कर रहे हैं क्योंकि डीएनए के सैंपल्स के अलावा पहचान का कोई रास्ता नहीं है। उन्होंने कहा कि यहां 70-80 लोग काम करते थे। रेस्क्यू भी किया गया है... ज़िम्मेदारी जांच के बाद तय होगी। इस बारे में हम कयास नहीं लगा सकते। अभी हमारी प्राथमिकता है कि रेस्क्यू ऑपरेशन पूरा किया जाए।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...