Mundka Fire Tragedy: रेस्क्यू अभियान हुआ पूरा, इमारत का नहीं था एनओसी और आग बुझाने वाला कोई उपकरण

Mundka Fire Tragedy: रेस्क्यू अभियान हुआ पूरा, इमारत का नहीं था एनओसी और आग बुझाने वाला कोई उपकरण
प्रतिरूप फोटो
ANI Image

दिल्ली फायर सर्विसेज के निदेशक अतुल गर्ग ने बताया कि हमने कुल 30 फायर टेंडर को भेजा और काम में 125 लोगों को लगाया। हमें रात को 27 शव मिले, कुछ शवों के हिस्से सुबह मिले हैं, जिससे लगता है कि ये 2-3 शव और होंगे। कुल मृतकों की संख्या 29-30 हो सकती है।

नयी दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी के मुंडका मेट्रो स्टेशन के पास स्थित चार मंजिला इमारत में भीषण आग लगने से कम से कम 27 लोगों की मौत हो गई और 12 अन्य झुलस गए। इसी बीच एक बड़ी जानकारी सामने आ रही है। आपको बता दें कि चार मंजिला इमारत का फायर एनओसी नहीं था। इसके अतिरिक्त इमारत में आग बुझाने का कोई उपकरण नहीं था। 

इसे भी पढ़ें: चार मंजिला इमारत में भीषण आग, 27 लोग जिंदा जले, अपनों को तलाशती रही आंखें 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, दिल्ली फायर सर्विसेज के निदेशक अतुल गर्ग ने बताया कि हमने कुल 30 फायर टेंडर को भेजा और काम में 125 लोगों को लगाया। हमें रात को 27 शव मिले, कुछ शवों के हिस्से सुबह मिले हैं, जिससे लगता है कि ये 2-3 शव और होंगे। कुल मृतकों की संख्या 29-30 हो सकती है।

उन्होंने बताया कि इस इमारत का फायर एनओसी नहीं था और आग बुझाने का कोई उपकरण भी नहीं था। इमारत में प्लास्टिक का सामान और सीसीटीवी आदि था इसलिए आग एक मंजिल से दूसरी पर फैली... हमारा रेस्क्यू ऑपरेशन अब पूरा हो चुका है, अब इसमें और शव मिलने की संभावना नहीं है।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली अग्निकांड : अपने प्रियजनों की तलाश में अस्पताल पहुंचे व्याकुल परिजन 

हिरासत में लिए गए कंपनी के मालिक

प्राप्त जानकारी के मुताबिक, आग इमारत की पहली मंजिल से लगनी शुरू हुई जहां सीसीटीवी कैमरा और राउटर निर्माता कंपनी का दफ्तर था। जिसको लेकर पुलिस ने कंपनी के मालिकों हरीश गोयल और वरुण गोयल को हिरासत में ले लिया गया है और इमारत के मालिक की पहचान मनीष लाकरा के रूप में हुई है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।