दिल्ली में इस साल अब तक डेंगू के 273 मामले, 149 मामले अकेले सितंबर में आये

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 27, 2021   14:07
दिल्ली में इस साल अब तक डेंगू के 273 मामले, 149 मामले अकेले सितंबर में आये

दिल्ली में पिछले एक हफ्ते में डेंगू के 60 से अधिक नए मामले सामने आए हैं। इस साल अब तक डेंगू के 270 मामले आ चुके हैं। नगर निकाय की सोमवार को जारी एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई।

नयी दिल्ली। दिल्ली में पिछले एक हफ्ते में डेंगू के 60 से अधिक नए मामले सामने आए हैं। इस साल अब तक डेंगू के 270 मामले आ चुके हैं। नगर निकाय की सोमवार को जारी एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई। रिपोर्ट के अनुसार इस महीने 25 सितंबर तक डेंगू के कम से कम 149 मामले सामने आए हैं जो कुल मामलों के 54 फीसदी हैं। इस वर्ष 25 सितंबर तक मलेरिया के 102 मामले तथा चिकुनगुनिया के 52 मामले भी सामने आ चुके हैं।

इसे भी पढ़ें: भारत ने 150 से अधिक प्राचीन वस्तुएं लौटाने के लिए अमेरिका का आभार जताया

रिपोर्ट के अनुसार एक जनवरी से 25 सितंबर के बीच डेंगू के कुल 273 मामले सामने आ चुके हैं जो 2019 के बाद से सर्वाधिक हैं जब इस अवधि में 282 मामले सामने आए थे। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने 22 सितंबर को जो आंकड़े साझा किए थे उनके मुताबिक पिछले वर्ष सितंबर में 188 मामले और उसके पिछले वर्ष में 190 मामले सामने आए थे। उससे पहले के वर्षों में 374 (2018), 1103 (2017), 1362 (2016) और 6775 (2015) मामले सामने आए थे।”

इसे भी पढ़ें: 68 विधानसभा क्षेत्रों में निकलेगी स्वर्णिम रथ यात्रा : भाजपा अध्यक्ष सुरेश कश्यप

जैन ने दावा किया था कि इस साल शहर में सितंबर के महीने में पिछले छह सालों की तुलना में डेंगू के सबसे कम मामले सामने आए। नगर निकायों की पिछले हफ्ते जारी रिपोर्ट के मुताबिक इस वर्ष 18 सितंबर तक डेंगू के 211 मामले सामने आए। इसके अनुसार 62 मामले एक हफ्ते में जबकि 72 मामले अगस्त महीने में आए। रिपोर्ट में कहा गया कि डेंगू के कारण शहर में कोई मौत नहीं हुई।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।