दिल्ली का मोहम्मदपुर होगा माधवपुरम ! पार्षद की मांग का भाजपा ने किया समर्थन

दिल्ली का मोहम्मदपुर होगा माधवपुरम ! पार्षद की मांग का भाजपा ने किया समर्थन

जाहिर सी बात है कि भाजपा के इस प्रस्ताव को लेकर दिल्ली में सियासी उबाल देखने को मिल सकती है। भले ही एमसीडी में भाजपा का राज है लेकिन दिल्ली में आम आदमी पार्टी अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में सत्ता में है।

जगहों के नाम बदलने की राजनीति अब दिल्ली में भी शुरू हो गई है। दरअसल, भाजपा के पार्षद भगत सिंह टोकस ने दक्षिण दिल्ली के मोहम्मदपुर गांव का नाम बदलकर माधवपुरम करने का प्रस्ताव किया है। इस प्रस्ताव का अब दिल्ली भाजपा ने भी समर्थन किया है। दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने साफ तौर पर कहा कि अगर क्षेत्र में हिंदू बहुसंख्यक रहते हैं और उनकी मांग नाम बदलने की है तो इसे बदल देना चाहिए। एक समाचार वेबसाइट के मुताबिक उन्होंने कहा कि अगर किसी ने हम पर राज किया है और हम पर अपना नाम थोपा है तो उसे बदलने में कोई दिक्कत नहीं है। अतीत में भी कई नाम बदले गए हैं।

इसे भी पढ़ें: OBC आरक्षण को लेकर MP में प्रदर्शन, बीजेपी और कांग्रेस आमने-सामने, पूर्व मंत्री ने भी किया समर्थन

जाहिर सी बात है कि भाजपा के इस प्रस्ताव को लेकर दिल्ली में सियासी उबाल देखने को मिल सकती है। भले ही एमसीडी में भाजपा का राज है लेकिन दिल्ली में आम आदमी पार्टी अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में सत्ता में है। ऐसे में इस मसले को लेकर भाजपा और आम आदमी पार्टी आपने सामने आ सकती हैं। आपको बता दें कि पिछले सप्ताह ही भाजपा पार्षद टोकस ने वार्ड संख्या 66 के मोहम्मदपुर गांव का नाम बदलकर माधवपुरम करने की मांग की थी। वहीं दक्षिणी एमसीडी के जोन अध्यक्ष सुभाष भड़ाना ने कहा कि इस प्रस्ताव को हाल में ही जोनल मीटिंग में रखा गया था जिसे पास कर दिया गया है। अब यह प्रस्ताव नगर निगम के नामकरण समिति के पास है।

इसे भी पढ़ें: यूपी बीज विकास निगम के उपाध्यक्ष मेरठ पहुंचे, किसानों से करेंगे संवाद

अपने प्रस्ताव में टोकस ने कहा था कि मुगल काल में हर गांव के नाम जबरन बदले जाते थे। वार्ड 66 के एक गांव मोहम्मदपुर दक्षिणी दिल्ली नगर निगम के अधिकार क्षेत्र में आता है। मोहम्मदपुर के ग्रामीणों की मांग है कि गांव का नाम बदला जाए। हालांकि कई नेताओं का यह भी कहना है कि चुनाव से पहले इस तरह की मांग लगातार आती हैं जिस पर समय के साथ अमल भी किया जाता है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।