DU स्नातक पाठ्यक्रमों के लिए प्रवेश पोर्टल पर अब तक 1.26 लाख से अधिक छात्रों ने कराया रजिस्ट्रेशन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 24, 2020   09:07
DU स्नातक पाठ्यक्रमों के लिए प्रवेश पोर्टल पर अब तक 1.26 लाख से अधिक छात्रों ने कराया रजिस्ट्रेशन

स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवारों की कुल संख्या 41,704 है, जबकि भुगतान किए गए पंजीकरणों की संख्या 13,984 हैं। एम.फिल/पीएचडी में प्रवेश के लिए पोर्टल पर 5,356 अभ्यर्थियों ने पंजीकरण कराया है, जबकि 497 ने फीस का भुगतान किया है।

नयी दिल्ली। दिल्ली विश्वविद्यालय में स्नातक पाठ्यक्रमों के लिए प्रवेश पोर्टल पर अब तक 1.26 लाख से अधिक छात्रों ने पंजीकरण कराया है। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार यह जानकारी सामने आयी है। रात 10.30 बजे तक पोर्टल पर मौजूद आंकड़ों के अनुसार, पंजीकरण की कुल संख्या 1,26,671 है, जबकि 37,802 छात्रों ने पंजीकरण शुल्क का भुगतान किया है। भुगतान किए गए पंजीकरणों में से, 27,539 छात्र सामान्य वर्ग से, 4,790 अन्य पिछड़ा वर्ग से, 4,151 अनुसूचित जाति से, 723 अनुसूचित जनजाति से और 599 आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों से हैं।

इसे भी पढ़ें: आईएसआईएस आतंकियों की मदद पर एनआईए ने 12 लोगों के खिलाफ आरोप-पत्र दायर किया

स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवारों की कुल संख्या 41,704 है, जबकि भुगतान किए गए पंजीकरणों की संख्या 13,984 हैं। एम.फिल/पीएचडी में प्रवेश के लिए पोर्टल पर 5,356 अभ्यर्थियों ने पंजीकरण कराया है, जबकि 497 ने फीस का भुगतान किया है। इस साल, कोरोना वायरस महामारी के कारण प्रवेश प्रक्रिया में देरी हुई। प्रवेश पोर्टल 20 जून को लाइव हुआ और 4 जुलाई तक खुला रहेगा। दाखिला प्रक्रिया को लेकर छात्रों के सवालों के जवाब देने के लिए विश्वविद्यालय ने मंगलवार को एक वेबिनार आयोजित किया। कई छात्रों ने काउंसलर से उनके बोर्ड परिणामों में देरी के बारे में पूछा, जिसको लेकर छात्रों को आश्वासन दिया गया कि परिणाम घोषित होने के बाद ही प्रवेश शुरू होगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।