चुनाव आयोग से मध्य प्रदेश में श्रीलंका की तर्ज पर उपचुनाव कराने की मांग

चुनाव आयोग से मध्य प्रदेश में श्रीलंका की तर्ज पर उपचुनाव कराने की मांग

उन्होंने कहा कि श्रीलंका में बड़ी संख्या में लोगों ने संसदीय चुनावों में भाग लिया तथा वहां लगभग 71% मतदान हुआ। बैलेट पेपर के माध्यम से वोट डालने में ईवीएम मशीन को छूने का तथा संक्रमण फैलने का कोई डर नहीं होगा।

भोपाल। मध्य प्रदेश में काँग्रेस की कमलनाथ सरकार के पूर्व कैबिनेट मंत्री एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सज्जन सिंह वर्मा ने चुनाव आयोग तथा भारत के राष्ट्रपति को पत्र लिखकर श्रीलंका की तर्ज पर मध्य प्रदेश में भी उपचुनाव शीघ्र कराने का अनुरोध किया है। 

 

इसे भी पढ़ें: मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस के 652 नए मामले, एएसआई सहित 17 लोगों की मौत

सज्जन सिंह वर्मा ने अपने पत्र  के माध्यम से यह मांग की है। उन्होंने कहा कि जैसे कोरोना से बचाव करते हुए बैलेट पेपर के माध्यम से श्रीलंका में संसदीय चुनाव संपन्न हो सकते हैं, तो मध्य प्रदेश में उपचुनाव क्यों नहीं? अपने पत्र में उन्होंने चुनाव आयोग से श्रीलंका की तर्ज पर बैलेट पेपर के माध्यम से ही चुनाव कराए जाने की मांग की है। वर्मा ने कहा कि जिस तरह श्रीलंका में कोरोना संकट के बीच चुनावों को आगे बढ़ा दिया था। लेकिन लोकतंत्र के हित में तथा लोकतांत्रिक व्यवस्था के लिए वहां पर कोरोना से बचाव करते हुए चुनावों को बैलेट पेपर के माध्यम से तथा सोशल डिस्टेंसिंग के द्वारा संपन्न कराया गया।

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा में कांग्रेसियों ने ली भाजपा की सदस्यता, माना जाता है कमलनाथ का गढ़

इस दौरान पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने आरोप लगाया की उपचुनावों में हार की आशंका के चलते प्रदेश की भाजपा सरकार उप चुनावों को टालने का भरपूर प्रयास कर रही है, ऐसा करना लोकतांत्रिक व्यवस्थाओं के खिलाफ है तथा लोकतंत्र के हित में नहीं है। उन्होंने कहा कि श्रीलंका में बड़ी संख्या में लोगों ने संसदीय चुनावों में भाग लिया तथा वहां लगभग 71% मतदान हुआ। बैलेट पेपर के माध्यम से वोट डालने में ईवीएम मशीन को छूने का तथा संक्रमण फैलने का कोई डर नहीं होगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...