राज ठाकरे ने फिर दोहराई मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटाने की मांग, उप मुख्यमंत्री अजीत पवार ने किया पलटवार

ajit pawar
ANI pictures
अंकित सिंह । Apr 13, 2022 3:00PM
राज ठाकरे पर पलटवार करते हुए अजित पवार ने कहा कि उनके बातों को ज्यादा महत्व नहीं दिया जाना चाहिए। जब सही समय आएगा तब हम निश्चित जवाब देंगे। फिलहाल मेरे पास सभी सवालों के जवाब नहीं है।

मस्जिदों में लाउडस्पीकर से अजान का मामला लगातार बढ़ता जा रहा है। इन सबके बीच महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष राज ठाकरे ने अल्टीमेटम दिया है कि अगर 3 मई तक लाउडस्पीकर मस्जिदों से नहीं हटाई गई तो हनुमान चालीसा बजाएंगे। इसको लेकर अब महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजित पवार का भी बयान सामने आया है। राज ठाकरे पर पलटवार करते हुए अजित पवार ने कहा कि उनके बातों को ज्यादा महत्व नहीं दिया जाना चाहिए। जब सही समय आएगा तब हम निश्चित जवाब देंगे। फिलहाल मेरे पास सभी सवालों के जवाब नहीं है।

इसे भी पढ़ें: राज ठाकरे की चेतावनी पर सामने आया शरद पवार का बयान, बोले- सरकार को गंभीरता से करना चाहिए विचार

राज ठाकरे ने साफ तौर पर कहा था कि 3 मई तक मस्जिदों में लाउडस्पीकर बंद होने चाहिए वरना हम स्पीकर पर हनुमान चालीसा बजाएंगे। यह एक सामाजिक मुद्दा है, धार्मिक नहीं। मैं राज्य सरकार से कहना चाहता हूं, हम इस विषय पर पीछे नहीं हटेंगे, आप जो करना चाहते हैं वह करें। वहीं एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कहा कि राज्य सरकार को राज ठाकरे की चेतावनी के संबंध में गंभीरता से विचार करना चाहिए। महंगाई और बेरोज़गारी पर बोलने का समय है लेकिन इस पर कोई नहीं बोलता है। इसी के साथ ही शरद पवार ने कहा कि कांग्रेस के बिना तीसरा मोर्चा मुमकिन नहीं है।

इसे भी पढ़ें: राज ठाकरे ने फिर कहा- 3 मई तक मस्जिदों में बंद हो लाउडस्पीकर, वरना हम बजाएंगे हनुमान चालीसा

इसके अलावा राज ठाकरे ने समान नागरिक संहिता की वकालत की और जनसंख्या वृद्धि को नियंत्रित करने की जरूरत पर जोर दिया। ठाकरे ने कहा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इस देश में समान नागरिक संहिता लागू करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि जनसंख्या वृद्धि को रोकने के लिए एक कानून लाया जाना चाहिए। ठाकरे ने इस आलोचना का जवाब दिया कि वह 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा पर हमला करते थे, लेकिन प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) का नोटिस प्राप्त होने के बाद उनके सुर बदल गए। उन्होंने कहा कि ऐसा बिलकुल नहीं है कि उनका राजनीतिक रुख बदलता रहा है। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़