राज ठाकरे की चेतावनी पर सामने आया शरद पवार का बयान, बोले- सरकार को गंभीरता से करना चाहिए विचार

Sharad Pawar
प्रतिरूप फोटो
ANI
एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कहा कि राज्य सरकार को राज ठाकरे की चेतावनी के संबंध में गंभीरता से विचार करना चाहिए। महंगाई और बेरोज़गारी पर बोलने का समय है लेकिन इस पर कोई नहीं बोलता है। इसी के साथ ही शरद पवार ने कहा कि कांग्रेस के बिना तीसरा मोर्चा मुमकिन नहीं है।

मुंबई। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) प्रमुख शरद पवार ने बुधवार को महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) राज ठाकरे के संबंध में बयान दिया। दरअसल, राज ठाकरे ने एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा था कि मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटाए जाने चाहिए और इसके लिए उन्होंने महाराष्ट्र सरकार को तीन मई तक का अल्टीमेटम दिया है। 

इसे भी पढ़ें: राज ठाकरे की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, आर्म्स एक्ट के तहत दर्ज हो सकता है मुकदमा 

एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कहा कि राज्य सरकार को राज ठाकरे की चेतावनी के संबंध में गंभीरता से विचार करना चाहिए। महंगाई और बेरोज़गारी पर बोलने का समय है लेकिन इस पर कोई नहीं बोलता है। इसी के साथ ही शरद पवार ने कहा कि कांग्रेस के बिना तीसरा मोर्चा मुमकिन नहीं है।

कांग्रेस के बिना तीसरा मोर्चा मुमकिन नहीं

शरद पवार ने एक बार फिर से स्पष्ट कर दिया कि कांग्रेस के बिना तीसरा मोर्चा मुमकिन नहीं है। दरअसल, देश में तीसरा मोर्चा बनाए जाने की कवायद शुरू है। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के बाद ममता बनर्जी ने दिल्ली और मुंबई का दौरा किया था और नेताओं से मुलाकात कर तीसरा मोर्चा खड़ा करने की कोशिशें की थीं। इसके बाद तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर ने भाजपा विरोधी दलों को एकजुट करने का प्रयास किया। इसी संबंध में उन्होंने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से मुलाकात की थी। लेकिन राजनीति के पितामह कहे जाने वाले शरद पवार का मानना है कि कांग्रेस के बिना तीसरा मोर्चा मुमकिन नहीं और उन्होंने ऐसा बयान कई दफा दिया है। 

इसे भी पढ़ें: राज ठाकरे के घर के बाहर NCP का प्रदर्शन, लगाए गए नारा ए तकबीर अल्लाह हू अकबर के नारे 

ठाकरे ने सरकार को दिया है अल्टीमेटम

राज ठाकरे ने सरकार को 3 मई तक का अल्टीमेटम देते हुए मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटाए जाने की मांग की। उन्होंने कहा था कि अगर महाराष्ट्र सरकार ने 3 मई से पहले मस्जिदों से लाउडस्पीकर नहीं हटाए तो मनसे कार्यकर्ता मस्जिदों के सामने हनुमान चालीसा बजाएंगे। यह धार्मिक नहीं, बल्कि सामाजिक मुद्दा है क्योंकि लाउडस्पीकर से सभी को परेशानी होती है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़