घर वापसी करने वाले थे धर्म सिंह सैनी, आखिरी क्षणों में टली जॉइनिंग, चुनाव से पहले सपा की साइकिल पर हुए थे सवार

Dharam Singh Saini
ANI
अंकित सिंह । Nov 30, 2022 1:27PM
चुनाव से पहले जब उन्होंने भाजपा को छोड़ा था तो पार्टी के लिए बड़ा झटका माना गया था। योगी सरकार पार्ट वन में धर्म सिंह सैनी आयुष मंत्री थे। उन्होंने पिछड़ों की उपेक्षा का आरोप लगाते हुए भाजपा से इस्तीफा दे दिया था।

उत्तर प्रदेश की सियासत अपने आप में काफी दिलचस्प रही है। इस बात की चर्चा जोरों पर थी कि समाजवादी पार्टी के नेता धर्म सिंह सैनी भाजपा में शामिल होंगे। 2022 के विधानसभा चुनाव से ठीक पहले मंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद धर्म सिंह सैनी ने समाजवादी पार्टी में शामिल होना सही समझा था। इस दौरान उन्होंने योगी आदित्यनाथ की सरकार पर कई बड़े आरोप भी लगाए थे। मुजफ्फरनगर के खतौली सीट पर विधानसभा उपचुनाव हो रहे हैं। योगी आदित्यनाथ आज प्रचार करने पहुंचने वाले हैं। इसी दौरान धर्म सिंह सैनी के भाजपा में शामिल होने की खबर थी। लेकिन अब इसे टाल दिया गया है। हालांकि, इसका कारण अब तक नहीं बताया गया है। धर्म सिंह सैनी पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बड़े नेता माने जाते हैं। 

इसे भी पढ़ें: राम भक्तों का बलिदान, बाबा ने करा दिया ध्यान, गोधरा में योगी के चुनाव प्रचार का क्या है सियासी संदेश?

चुनाव से पहले जब उन्होंने भाजपा को छोड़ा था तो पार्टी के लिए बड़ा झटका माना गया था। योगी सरकार पार्ट वन में धर्म सिंह सैनी आयुष मंत्री थे। उन्होंने पिछड़ों की उपेक्षा का आरोप लगाते हुए भाजपा से इस्तीफा दे दिया था। समाजवादी पार्टी की टिकट पर वह सहारनपुर की नपुड़ सीट से चुनाव लड़े था, लेकिन हार का सामना करना पड़ा। इसके बाद धीरे-धीरे धर्म सिंह सैनी समाजवादी पार्टी में हाशिए पर चले गए। धर्म सिंह सैनी सरसावा से लगातार चार बार विधायक रहे। वह 2002 में बसपा के टिकट पर सरसावा से चुनाव जीते थे। सरसावा ही अब नकुड़ सीट है। उसके बाद 2007 और 2012 में भी वह विधायक चुने गए। 2016 में वह भाजपा में शामिल हुए। 2017 में उन्हें टिकट मिला और वह जीतकर मंत्री भी बन गए। 

इसे भी पढ़ें: योगी का निशाना, कांग्रेस शहीदों और सैनिकों का अपमान करने वाली पार्टी, राम मंदिर निर्माण में डाल रही थी रुकावट

हालांकि, चुनाव से ठीक पहले उन्होंने भाजपा से इस्तीफा दे दिया था। धर्म सिंह सैनी का इस्तीफा उसी समय आया था जब भाजपा की सरकार से स्वामी प्रसाद मौर्य जैसे नेताओं ने भी इस्तीफा दे दिया था। हालांकि, समाजवादी पार्टी में शामिल होने के बाद से वह लगातार हाशिए पर हैं। यही कारण है कि उन्होंने घर वापसी का मन बनाया था। खतौली में भाजपा ने चुनाव जीतने के लिए अपनी पूरी ताकत लगा दी है। हालांकि आखिरी क्षणों में सैनी की जॉइनिंग क्यों टाली गई, इसको लेकर कुछ साफ नहीं हो पाया है। 

अन्य न्यूज़