CBI की पूछताछ के बाद बोले मणिपुर के पूर्व मुख्यमंत्री, मैंने कुछ गलत नहीं किया, जांच का स्वागत है

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 24, 2020   22:46
CBI की पूछताछ के बाद बोले मणिपुर के पूर्व मुख्यमंत्री, मैंने कुछ गलत नहीं किया, जांच का स्वागत है

मणिपुर के पूर्व मुख्यमंत्री इबोबी सिंह ने कहा कि वह जुलाई 2013 से अगस्त 2014 तक सोसाइटी के अध्यक्ष थे और उस संक्षिप्त अवधि के दौरान उन्होंने आम सभा की केवल एक बैठक की अध्यक्षता की थी।

इम्फाल। मणिपुर के पूर्व मुख्यमंत्री ओ इबोबी सिंह ने ‘‘मणिपुर डेवलपमेंट सोसाइटी’’ में कथित वित्तीय अनियमितता को लेकर सीबीआई द्वारा पूछताछ किये जाने के बाद बुधवार को कहा कि वह इसके अध्यक्ष पद पर सिर्फ एक साल थे और वित्तीय लेन-देन करने की उनके पास कोई शक्ति नहीं थी। यहां बाबूपारा स्थित अपने आवास में सीबीआई द्वारा करीब तीन घंटे पूछताछ किये जाने के बाद कांग्रेस नेता ने संवाददाताओं से कहा कि उन्होंने कुछ भी गलत नहीं किया है। सिंह ने कहा कि वह जुलाई 2013 से अगस्त 2014 तक सोसाइटी के अध्यक्ष थे और उस संक्षिप्त अवधि के दौरान उन्होंने आम सभा की केवल एक बैठक की अध्यक्षता की थी। उन्होंने इन खबरों का खंडन किया कि वह इस पदपर सात-आठ साल थे। 

इसे भी पढ़ें: BJP ने NPP को मनाने के प्रयास किए तेज, राम माधव बोले- 2022 तक स्थिर रहेगी हमारी सरकार 

उन्होंने कहा कि तत्कालीन मुख्य सचिव के अनुरोध पर उन्होंने यह पदभार संभाला था। सिंह नेकहा, ‘‘सोसाइटी के नियमों के मुताबिक, अध्यक्ष की कोई भूमिका नहीं है। किसी भी तरह का वित्तीय लेन-देन, आवंटन और चेक पर हस्ताक्षर परियोजना निदेशक द्वारा किया जाता है। इसलिए, अध्यक्ष इससे अवगत नहींहैं। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैंने सोसाइटी के सिलसिले में कोई बैंक खाता नहीं खोला, एक भी चेक पर कभी हस्ताक्षर नहीं किया। ’’ तीन बार मुख्यमंत्रीरह चुके सिंह और सोसाइटी के चार अन्य पूर्व अध्यक्षों पर 332 करोड़ रुपये की हेराफेरी करने का आरोप है। सिंह ने कहा कि वह जांच का स्वागत करते हैं और इसमें पूरा सहयोग कर रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: मणिपुर संकट दो से तीन दिन में सुलझा लिया जाएगा: हिमंत बिस्व सरमा 

उन्होंने कहा, ‘‘यदि कोई दोषी पाया जाता है तो अदालत आरोपों की पड़ताल के बाद जरूरी सजा दे सकती है।’’ कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि सिंह से पूछताछमणिपुर में भाजपा नीत सरकार को बचाने की हताशाजनक कोशिश है, जिसे हाल ही में नौ विधायकों की बगावत का सामना करना पड़ा है। इनमें उसके सहयोगी दल एनपीपी के चार मंत्री भी शामिल हैं। कांग्रेस नेता गौरव गोगोई ने सिंह को एजेंसी द्वारा तलब किये जाने के बाद ट्वीट किया था कि एक अलोकप्रिय मुख्यमंत्री को बचाने के सारे प्रयास विफल होंगे। यह सारा प्रयास एक डूबते जहाज को बचाने का है। सीबीआई पर से लोगों का विश्वास उठ जाएगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।