क्या कोटा के अस्पताल में बिजली गुल होने से गई महिला की जान ? स्वास्थ्य मंत्री का बयान आया सामने

क्या कोटा के अस्पताल में बिजली गुल होने से गई महिला की जान ? स्वास्थ्य मंत्री का बयान आया सामने
प्रतिरूप फोटो
ANI Image

मृतक महिला की बेटी मधु ने बताया कि कोटा अस्पताल में बिजली की कोई व्यवस्था नहीं थी जिसके कारण मेरी मां की मृत्यु हुई है, अस्पताल ने मेरी मां के इलाज में लापरवाही की है। इतने बड़े अस्पताल में सीनियर डॉक्टर तक मौजूद नहीं थे। अस्पताल में ट्रेनर डॉक्टर रखें हुए हैं, इस अस्पताल पर कार्रवाई होनी चाहिए।

कोटा। राजस्थान के कोटा मेडिकल कॉलेज के नए अस्पताल में बिजली गुल होने की वजह से मरीजों को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ा। इसी बीच एक महिला की भी मौत हो गई। जिसके बाद मृतक के परिजनों ने इलाज में लापरवाही का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग की। इस संबंध में राजस्थान स्वास्थ्य मंत्री परसादी लाल मीणा का भी बयान सामने आया है। 

इसे भी पढ़ें: राजनीति विज्ञान के प्रश्नपत्र में पूछी गईं कांग्रेस की उपलब्धियां, भाजपा ने गहलोत सरकार पर साधा निशाना 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, मृतक महिला की बेटी मधु ने बताया कि कोटा अस्पताल में बिजली की कोई व्यवस्था नहीं थी जिसके कारण मेरी मां की मृत्यु हुई है, अस्पताल ने मेरी मां के इलाज में लापरवाही की है। इतने बड़े अस्पताल में सीनियर डॉक्टर तक मौजूद नहीं थे। अस्पताल में ट्रेनर डॉक्टर रखें हुए हैं, इस अस्पताल पर कार्रवाई होनी चाहिए। पुलिस को बुला कर हमें डराने की भी कोशिश की गई लेकिन हम नहीं डरे।

क्या गंभीर बीमारी के चलते हुई महिला की मौत ?

स्वास्थ्य मंत्री परसादी लाल मीणा ने कहा कि अस्पताल में बिजली गुल होने की वजह से महिला की मौत नहीं हुई है। उन्होंने कहा कि कोटा अस्पताल में अचानक ओवर वोल्टेज के कारण केबल फॉल्ट हुआ, जिसके कारण लंबे समय तक बिजली गुल थी। मामले में डॉक्टरों का कहना है कि महिला की मृत्यु गंभीर बीमारी के कारण हुई है। अस्पताल में बिजली गुल होने के कारण ऐसा कुछ नहीं हुआ है। बिलजी गुल होने से किसी की मृत्यु थोड़ी ना होती है। 

इसे भी पढ़ें: सोनिया गांधी ने बनाई वरिष्ठ नेताओं की 6 कमिटी, नौ साल बाद फिर राजस्थान में चिंतन शिविर, होगी 'पीके' की एंट्री?

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कोटा मेडिकल कॉलेज के नए अस्पताल के कई वीडियो सामने आए। जिसके मुताबिक बिजली गुल होने के बाद मरीजों को काफी परेशानियां हुईं और टॉर्च की रोशनी में इंजेक्शन और दवाईयां देनी पड़ी। इस दौरान एक महिला की भी मौत हो गई। हालांकि अस्पताल प्रशासन ने महिला की मौत के पीछे बिजली की समस्या का खंडन किया है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।