30 साल की सर्विस में 54 तबादले झेलने वाले अशोक खेमका के बारे में जानते हैं आप?

30 साल की सर्विस में 54 तबादले झेलने वाले अशोक खेमका के बारे में जानते हैं आप?
Creative Common

अशोक खेमका का जन्म कोलकाता में हुआ था। उनका जन्म एक निम्न मध्यम वर्गीय परिवार में हुआ। खेमका के पिता एक क्लर्क थे। उन्होंने 1988 में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान खड़गपुर से कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग में बीटेक की डिग्री के साथ स्नातक की उपाधि प्राप्त की।

अशोक खेमका भारतीय सिविल सेवा नौकरशाह हैं। वो 1991 बैच के भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी हैं। उन्हें सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा के गुड़गांव में अवैध भूमि सौदे के म्यूटेशन को रद्द करने की वजह से बेहद चर्चा में भी रहे। अक्टूबर 2021 तक 29 वर्षों में 54 बार उनका ट्रांसफर किया गया। खेमका रॉबर्ट वाड्रा डीएलएफ भूमि हड़पने घोटाला, सोनीपत-खरखोदा आईएमटी भूमि घोटाला मामला और गढ़ी सांपला उददार गगन भूमि घोटाला सहित भूपिंदर हुड्डा के शासन में हुए कई घोटालों का एक व्हिसलब्लोअर है। अशोक खेमका एक अन्य सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी प्रदीप कासनी के बाद हरियाणा के दूसरे सबसे अधिक स्थानांतरित नौकरशाह हैं, जिनका 35 वर्षों में 71 बार तबादला हुआ था।

इसे भी पढ़ें: कुमारी सैलजा को पद से हटाए जाने पर हरियाणा के गृह मंत्री मंत्री अनिल विज ने कसा तंज

प्रारंभिक जीवन और शिक्षा

अशोक खेमका का जन्म कोलकाता में हुआ था। उनका जन्म एक निम्न मध्यम वर्गीय परिवार में हुआ। खेमका के पिता एक क्लर्क थे। उन्होंने 1988 में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान खड़गपुर से कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग में बीटेक की डिग्री के साथ स्नातक की उपाधि प्राप्त की और इसके बाद टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च, मुंबई से कंप्यूटर साइंस में पीएचडी और एमबीए की डिग्री प्राप्त की। इसके बाद उन्होंने आईएएस की परीक्षा दी और हरियाणा कैडर में चयनित हो गए। उन्होंने इग्नू से एमए इकोनॉमिक्स की डिग्री भी हासिल की है।

इसे भी पढ़ें: हरियाणा में कांग्रेस के दो पूर्व नेताओं ने आम आदमी पार्टी का दामन थामा

अशोक खेमका के खिलाफ चार्जशीट दाखिल

खेमका के लिए दो आरोपपत्र दायर किए गए हैं, जिनमें से एक पर हरियाणा बीज विकास निगम में अपनी जिम्मेदारियों से विफल रहने का आरोप लगाया गया है। जहां खेमका ने भ्रष्टाचार पाया था और सीबीआई जांच के लिए अनुरोध किया था। आगे खेमका ने उद्धृत किया कि "मैंने विश्वसनीय रूप से सुना है कि 10 निजी शिकायतों के साथ मेरे खिलाफ 10 आरोप पत्र दायर किए जाएंगे। उन्होंने हरियाणा सरकार पर अशोक खेमका को दंडित करने के लिए अपने अधिकार का दुरुपयोग करने का आरोप लगाया गया था। हरियाणा के दो आईएएस अधिकारी इन दिनों आमने-सामने नजर आए। आईएएस संजीव वर्मा की ओर से अशोक के खिलाफ मामला दर्ज किए जाने की सिफारिश के बाद अब आईएएस अशोक खेमका ने संजीव वर्मा के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए शिकायत दे दी है। वहीं, गृहमंत्री अनिल खेमका के साथ पुलिस आयुक्त से मुलाकात करने पहुंचे और कार्रवाई के आदेश जारी कर दिए।  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।