ईडी ने धनशोधन मामले में करनाल के एक कारोबारी को गिरफ्तार किया

ED arrests
prabhasakshi
प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने करनाल के एक कारोबारी को 155 करोड़ रुपये के कथित बैंक ऋण धोखाधड़ी से जुड़े एक मामले में धनशोधन रोधक कानून (पीएमएलए) के तहत गिरफ्तार किया है। एजेंसी ने बुधवार को यह जानकारी दी।

नयी दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने करनाल के एक कारोबारी को 155 करोड़ रुपये के कथित बैंक ऋण धोखाधड़ी से जुड़े एक मामले में धनशोधन रोधक कानून (पीएमएलए) के तहत गिरफ्तार किया है। एजेंसी ने बुधवार को यह जानकारी दी। बयान में कहा गया है कि महेश टिम्बर प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक अशोक कुमार मित्तल को हिरासत में लिया गया है और मंगलवार को उन्हें पंचकूला में विशेष पीएमएलए अदालत में पेश किया गया।

इसे भी पढ़ें: नारी शक्ति को सम्मान, कैप्टन अभिलाषा बराक बनीं भारत की पहली महिला काम्बैट एविएटर

अदालत ने मित्तल को चार दिन के ईडी रिमांड पर भेज दिया है। ईडी ने आरोप लगाया, ‘‘मित्तल जांच के दौरान सहयोग नहीं कर रहे थे। उन्होंने सूचना को छुपाने और जांच को गुमराह करने की कोशिश की।’’

इसे भी पढ़ें: त्योहारों में दाम न बढ़ें, इसलिए सीमित किया गया है चीनी का निर्यात : खाद्य सचिव

एजेंसी के मुताबिक, ‘महेश टिम्बर प्राइवेट लिमिटेड के प्रमुख निदेशक मित्तल ने बैंक अधिकारी के साथ सांठगांठ में साख पत्र की सीमा 21 करोड़ रुपये से बढ़ाकर 195 करोड़ रुपये करवा ली। इसे राशि को फर्जी निर्यात के नाम पर सिंगापुर में मित्तल की इकाइयों को स्थानांतरित कर दिया गया।’’ ईडी ने कहा, ‘‘मित्तल ने बैंक को कुल 155 करोड़ रुपये का नुकसान पहुंचाया है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़