किसान संघों और सरकार के बीच आठवें दौर की वार्ता जारी, जान गंवाने वाले किसानों के लिए रखा गया दो मिनट का मौन

  •  अनुराग गुप्ता
  •  जनवरी 4, 2021   15:41
  • Like
किसान संघों और सरकार के बीच आठवें दौर की वार्ता जारी, जान गंवाने वाले किसानों के लिए रखा गया दो मिनट का मौन

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सरकार-किसान वार्ता की शुरुआत से पहले विरोध प्रदर्शन के दौरान जान गंवाने वाले किसानों के लिए केंद्रीय मंत्रियों ने दो मिनट का मौन रखा।

नयी दिल्ली। केंद्रीय कृषि कानूनों के विरोध में किसानों का विरोध प्रदर्शन चल रहा है और इसी मुद्दे को लेकर केंद्र सरकार के साथ किसान संगठनों की बातचीत शुरू हो गई है। अभी तक सात दौर की वार्ता हो चुकी है और आठवें दौर की वार्ता दिल्ली के विज्ञान भवन में जारी है। बता दें कि किसान संगठनों की चार मुद्दों को लेकर केंद्र सरकार के साथ वार्ता चल रही है और सातवें दौर में दो मुद्दों पर सहमति बन गई थी लेकिन दो महत्वपूर्ण मुद्दों पर आज चर्चा होनी है। जिसमें न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) कानून और तीनों कानूनों की वापसी अहम है। 

इसे भी पढ़ें: किसान समूहों ने दिल्ली की तरफ बढ़ने का किया प्रयास, हरियाणा पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सरकार-किसान वार्ता की शुरुआत से पहले विरोध प्रदर्शन के दौरान जान गंवाने वाले किसानों के लिए केंद्रीय मंत्रियों ने दो मिनट का मौन रखा। इस बैठक में सरकार की तरफ से वार्ता के लिए केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, पीयूष गोयल और सोम प्रकाश मौजूद हैं। पिछले एक महीने से जारी किसान आंदोलन में शामिल 60 किसानों की मौत हो चुकी है। वार्ता से पहले भारतीय किसान संघ के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने बताया था कि आंदोलन में अब तक 60 किसानों की मौत हो चुकी है। हर 16 घंटे में एक किसान अपनी जान गंवा रहा है। सरकार की जिम्मेदारी है कि वह जवाब दें। 

इसे भी पढ़ें: सरकार के साथ बातचीत से पहले किसान नेता राकेश टिकैत बोले, अगर मांगें पूरी नहीं होती तो आंदोलन चलेगा 

उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार ने स्पष्ट कर दिया था कि वह कृषि कानूनों को वापस नहीं लेने वाली है लेकिन किसानों की बेहतरी के लिए वह इसमें संशोधन जरूर कर सकती है। इसीलिए सरकार किसान संघों के साथ बातचीत कर सभी मसलों को सुलझाने में जुटी हुई है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


वोकल फॉर लोकल अभियान को जन आंदोलन बनाने में हूनर हाट अहम भूमिका निभा रहे: नकवी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 27, 2021   14:53
  • Like
वोकल फॉर लोकल अभियान को जन आंदोलन बनाने में हूनर हाट अहम भूमिका निभा रहे: नकवी

जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय द्वारा आयोजित 26वें ‘हुनर हाट’ में संवाददाताओं से नकवी ने कहा कि 20 फरवरी को शुरू हुए इस ‘हुनर हाट’ में अब तक 12 लाख से अधिक लोग आ चुके हैं।

नयी दिल्ली। केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने शनिवार को यहां कहा कि ‘वोकल फॉर लोकल’ को जन आंदोलन बनाने में ‘हुनर हाट’ अहम भूमिका निभा रहा हैं। ‘हुनर हाट’ कलाकारों को प्रोत्साहित करने की अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय की महत्वाकांक्षी पहल है। जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय द्वारा आयोजित 26वें ‘हुनर हाट’ में संवाददाताओं से नकवी ने कहा कि 20 फरवरी को शुरू हुए इस ‘हुनर हाट’ में अब तक 12 लाख से अधिक लोग आ चुके हैं।

उन्होंने कहा कि 1 मार्च 2021 तक चलने वाले ‘हुनर हाट’ में अगले दो दिन में आने लोगों की संख्या 16 लाख तक पहुंचने की उम्मीद है। उल्लेखनीय है कि 10 दिवसीय हुनर हाट का उद्घाटन रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने किया था। नकवी ने कहा कि अब तक कई केंद्रीय मंत्री, संसद सदस्य, वरिष्ठ नौकरशाह, विभिन्न देशों के राजनयिक, जाने-माने उद्योगपति हुनर हाट में दस्तकारों, शिल्पकारों, कलाकारों की हौसला अफजाई करने आ चुके हैं। उन्होंने कहा कि मंत्रालय की महत्वकांक्षी पहल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ‘वोकल फॉर लोकल’ अभियान की प्रवर्तक बन गयी है और लोग करोड़ों रुपये के हस्तनिर्मित उत्पाद देसी कलाकारों से खरीद रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: मुद्रास्फीति की दर को लगातार काबू में रखना मोदी सरकार की बड़ी सफलता

नकवी ने कहा कि जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में आयोजित हुनर हाट में आंध्र प्रदेश, असम, बिहार, चंडीगढ़, छत्तीसगढ़, दिल्ली, गोवा, गुजरात, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, झारखण्ड, कर्नाटक, केरल, लद्दाख, मध्य प्रदेश, मणिपुर, मेघालय, नागालैंड, ओड़िशा, पुडुचेरी, पंजाब, राजस्थान, सिक्किम, तमिलनाडु, तेलंगाना, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पश्चिम बंगाल सहित देश के 31 से अधिक राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों से 600 से अधिक दस्तकार, शिल्पकार, कारीगर शानदार स्वदेशी उत्पादों के साथ शामिल हुए हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


मायावती आरपीआई में शामिल हों तो उन्‍हें अध्‍यक्ष बनाकर खुद उपाध्‍यक्ष बन जाऊंगा: रामदास आठवले

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 27, 2021   14:44
  • Like
मायावती आरपीआई में शामिल हों तो उन्‍हें अध्‍यक्ष बनाकर खुद उपाध्‍यक्ष बन जाऊंगा: रामदास आठवले

किसान आंदोलन के बारे में पूछे जाने पर आठवले ने कहा हमारी सरकार किसानों के खिलाफ नहीं है बल्कि किसानों को समर्थन देने वाली सरकार है लेकिन एक भी कानून वापस लिया जाएगा तो संसद में हर कानून को वापस लेने का दबाव बढ़ेगा।

लखनऊ। रिपब्लिकन पार्टी आफ इंडिया (आरपीआई)के अध्‍यक्ष और केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले ने शनिवार को कहा कि अगर बहुजन समाज पार्टी की अध्‍यक्ष मायावती उनकी पार्टी में शामिल हो जाएं तो वह अपनी पार्टी के अध्‍यक्ष का पद मायावती को दे देंगे और खुद उपाध्‍यक्ष बन जाएंगे। शनिवार को यहां दौरे पर आये रामदास आठवले ने अति विशिष्‍ट अतिथि गृह में संवाददाताओं से कहा भीम आर्मी के संस्‍थापक चंद्रशेखर आजाद अगर मेरी पार्टी में आएं तो मैं उन्हें महत्‍वपूर्ण पद दूंगा और अगर मायावती आरपीआई में आ जाएं तो उन्‍हें अध्‍यक्ष का पद देकर खुद उपाध्‍यक्ष बन जाऊंगा, क्‍योंकि यह बाबा साहेब (डाक्‍टर भीम राव आंबेडकर) की पार्टी है। संवाददाताओं ने भीम आर्मी के संस्‍थापक चंद्रशेखर आजाद के साथ तालमेल को लेकर आठवले से सवाल पूछा था। इस पर उन्होंने आजाद के साथ ही मायावती को भी पार्टी में शामिल होने का न्योता दिया। 

इसे भी पढ़ें: देश में लगातार तीसरे दिन कोरोना के 16 हजार से अधिक मामले दर्ज, 113 मरीजों ने गंवाई अपनी जान

आठवले ने कहा उत्‍तर प्रदेश में लोगों की बसपा से नाराज़गी बढ़ रही है और लोग आरपीआई की तरफ आ रहे हैं। अगर भाजपा यहां हमारी पार्टी के लिए आठ-दस सीटें छोड़ दे तो आरपीआई बसपा को झटका दे सकती है। उन्‍होंने कहा कि उत्‍तर प्रदेश में 2022 के विधानसभा चुनाव के लिए हम भाजपा के साथ समझौता करना चाहते हैं और आज शाम को इस बारे में मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ से हमारी बातचीत होगी। इसके बाद भाजपा अध्‍यक्ष जेपी नड्डा, गृह मंत्री अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी बातचीत होगी। यह पूछे जाने पर कि पांच वर्ष से आप बातचीत कर रहे हैं लेकिन भाजपा आपको एक भी सीट नहीं दे रही है,केंद्रीय मंत्री ने कहा अभी हमारा संगठन बहुत मजबूत नहीं है लेकिन अब जिलों में भी ह‍म संगठन को मजबूत कर रहे हैं। उन्‍होंने मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यों की सराहना की। आरपीआई अध्‍यक्ष ने कहा कि देश के पांच राज्‍यों में होने वाले विधानसभा चुनाव हम भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के साथ मिलकर लड़ना चाहते हैं और अगर भाजपा नेसमझौते में सीटें नहीं दी तो भी कुछ सीटों पर अपने उम्‍मीदवार उतारेंगे और बाकी जगह भाजपा का समर्थन करेंगे। 

इसे भी पढ़ें: खिलौना विनिर्माता प्लास्टिक की जगह पर्यावरण अनुकूल सामग्रियों का इस्तेमाल बढ़ाएं: मोदी

उन्‍होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में 36 प्रतिशत दलित हैं और अगर आरपीआई भाजपा के साथ रहेगी तो उसका फायदा मिलेगा। पश्चिम बंगाल में भाजपा को दो सौ से अधिक सीटें मिलने का दावा करते हुए आठवले ने कहा कि वहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्‍व में भाजपा को बड़ी सफलता मिलने जा रही है। केंद्रीय मंत्री ने दावा किया कि चार राज्‍यों में राजग की सरकार आएगी और केरल में भी सफलता मिल सकती है क्‍योंकि वहां के लोग भी भाजपा को सत्‍ता सौंपने का मन बना रहे हैं। किसान आंदोलन के बारे में पूछे जाने पर आठवले ने कहा हमारी सरकार किसानों के खिलाफ नहीं है बल्कि किसानों को समर्थन देने वाली सरकार है लेकिन एक भी कानून वापस लिया जाएगा तो संसद में हर कानून को वापस लेने का दबाव बढ़ेगा। उन्‍होंने कहा कि कृषि कानूनों में संशोधन के लिए सरकार तैयार है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


ममता के कुशासन के खिलाफ खड़ी हो गई बंगाल की जनता, भाजपा शानदार जीत हासिल करेगी: शिवराज सिंह चौहान

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 27, 2021   14:41
  • Like
ममता के कुशासन के खिलाफ खड़ी हो गई बंगाल की जनता, भाजपा शानदार जीत हासिल करेगी: शिवराज सिंह चौहान

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा, ‘‘ मैं आज रात कोलकाता पहुंचूंगा और कल वहां परिवर्तन रैली में हिस्सा लूंगा। मैं वहां तीन सार्वजनिक सभाओं को भी संबोधित करुंगा।’’

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को कहा कि पश्चिम बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनाव में भाजपा ‘‘शानदार’’ जीत हासिल करेगी और सत्ता में आयेगी क्योंकि वहां के लोग अब ममता बनर्जी के ‘‘कुशासन’’ के खिलाफ खड़े हो रहे हैं। चौहान ने यह भी कहा कि वह रविवार को पश्चिम बंगाल में होने वाली परिवर्तन यात्रा में शामिल होंगे। मुख्यमंत्री चौहान ने यहां पत्रकारों से कहा, ‘‘ मैं आज रात कोलकाता पहुंचूंगा और कल वहां परिवर्तन रैली में हिस्सा लूंगा। मैं वहां तीन सार्वजनिक सभाओं को भी संबोधित करुंगा।’’ 

इसे भी पढ़ें: MP सरकार ने कोरोना काल में किसानों, गरीब जनता की आर्थिक मदद की है: शिवराज 

गौरतलब है कि चुनाव आयोग ने 27 मार्च से 29 अप्रैल तक पश्चिम बंगाल में आठ चरणों में मतदान कराने की घोषणा की है। उन्होंने कहा, ‘‘ पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव का बिगुल बज चुका है, वहां भाजपा की लहर चल रही है, इससे ममता दीदी भयभीत और उग्र हैं।’’ चौहान ने कहा, ‘‘इसलिये परिवर्तन रैलियों पर हमले किये जा रहे हैं और भाजपा के कार्यकर्ता मारे गये हैं। लेकिन उनका बलिदान व्यर्थ नहीं जायेगा। पश्चिम बंगाल में लोग ममता दीदी के कुशासन के खिलाफ हो गये हैं।’’ उन्होंने कहा कि भाजपा पश्चिम बंगाल में शानदार सफलता हासिल करने जा रही है और चुनाव के बाद वहां भाजपा की सरकार बनेगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept