संगठनात्मक चुनाव का पूरा कार्यक्रम तैयार, अध्यक्ष पद के लिए सितंबर में होगा चुनाव: सूत्र

संगठनात्मक चुनाव का पूरा कार्यक्रम तैयार, अध्यक्ष पद के लिए सितंबर में होगा चुनाव: सूत्र

प्राप्त जानकारी के मुताबिक कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव अगले साल सितंबर में कराए जाएंगे। समाचार एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से यह जानकारी दी। सीडब्ल्यूसी की बैठक में सोनिया गांधी ने साफ शब्दों में कहा कि चुनाव का पूरा कार्यक्रम तैयार किया जा चुका है।

नयी दिल्ली। कांग्रेस कार्य समिति की बैठक में संगठनात्मक चुनाव को लेकर बातचीत हुई। इस दौरान कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने खुद को पार्टी का फुटटाइम प्रेसिडेंट बताया। हालांकि सूत्रों के माध्यम से जानकारी मिली है कि अगले साल कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए चुनाव कराए जाएंगे। 

इसे भी पढ़ें: असंतुष्ट नेताओं को सोनिया की दो टूक, कहा- फुल टाइम अध्यक्ष की तरह करती हूं काम, मीडिया के जरिए मुझसे बात करने की जरूरत नहीं 

कब होने वाले थे चुनाव ?

आपको बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए होने वाले चुनाव की प्रक्रिया 30 जून तक पूरी होनी थी लेकिन कोरोना वायरस महामारी की वजह से चुनाव स्थगित कर दिए गए। हालांकि महामारी के थमने के बावजूद इस पर कोई चर्चा नहीं हुई। जिसको लेकर कांग्रेस के भीतर अंतर्कलह देखने को मिला। जी-23 के नेताओं में शामिल वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर नाम लिए बिना गांधी परिवार पर निशाना साधा था। जिसके बाद जल्द ही सीडब्ल्यूसी की बैठक बुलाए जाने की बात कही गई और आज यह बैठक हुई भी।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव अगले साल सितंबर में कराए जाएंगे। समाचार एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से यह जानकारी दी। सीडब्ल्यूसी की बैठक में सोनिया गांधी ने साफ शब्दों में कहा कि चुनाव का पूरा कार्यक्रम तैयार किया जा चुका है और संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल चुनाव प्रक्रिया की पूरी जानकारी देगी।

चुनाव की तैयारियां हुई शुरू

सीडब्ल्यूसी की बैठक में बताया गया कि उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, गोवा और मणिपुर में होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव की तैयारियां शुरू हो चुकी हैं। इस दौरान सोनिया गांधी ने कहा कि पूरा संगठन चाहता है कि कांग्रेस फिर से मजबूत हो। लेकिन इसके लिए जरूरी है कि एकजुटता हो और पार्टी के हित को सर्वोच्च रखा जाए। इन सबसे ऊपर आत्मनियंत्रण और अनुशासन की जरूरत है। 

इसे भी पढ़ें: पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का स्वास्थ्य पहले से बेहतर, कांग्रेस ने कहा- सभी को उनकी निजता का करना चाहिए सम्मान 

3 घंटे तक चली सीडब्ल्यूसी बैठक में जी-23 के नेताओं को निशाना बनाया गया। इस दौरान जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि सोनिया गांधी के नेतृत्व पर कोई सवाल नहीं उठाया जा रहा है। दरअसल, जी-23 के नेताओं ने सोनिया गांधी को पत्र लिखकर पार्टी नेतृत्व पर सवाल उठाए थे और बड़े बदलाव करने की जरूरत बताई थी। इतना ही नहीं जी-23 के नेता लगातार युवाओं के पार्टी छोड़ने को लेकर भी चिंतित थे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।