अयोध्या विवाद पर आए फैसले पर दूसरे देशों से संवाद बहुत सफल रहा: विदेश मंत्रालय

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 22, 2019   08:26
अयोध्या विवाद पर आए फैसले पर दूसरे देशों से संवाद बहुत सफल रहा: विदेश मंत्रालय

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि उच्चतम न्यायालय से अयोध्या विवाद पर आए फैसले के बाद भारत ने दिल्ली में ही कुछ देशों से संपर्क किया या विदेश में मौजूद भारतीय मिशन ने यह जिम्मेदारी निभाई।

नयी दिल्ली। भारत ने संतोषजनक तरीके से अयोध्या विवाद पर आऐ फैसले की जानकारी दूसरे देशों को दी और इस मामले पर उनसे किया गया संवाद ‘बहुत सफल’ रहा। यह जानकारी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने गुरुवार को दी। उन्होंने कहा, ‘‘यह विदेश मंत्रालय का कार्य है कि अगर भारत में कोई बड़ा घटनाक्रम हो तो दूसरे देशों से हमें संवाद करना चाहिए और अगर राजनयिक समुदाय से कोई अनुरोध आए जैसे हमसे पूछा जाए कि क्या हुआ और कैसे हुआ तो यह हमारा कर्तव्य है कि अपने पक्ष से उन्हें अवगत कराएं।’’ 

इसे भी पढ़ें: अयोध्या मामले पर मुस्लिम मोर्चा ने कहा, नहीं दायर करनी चाहिए पुनर्विचार याचिका

कुमार ने कहा कि उच्चतम न्यायालय से अयोध्या विवाद पर आए फैसले के बाद भारत ने दिल्ली में ही कुछ देशों से संपर्क किया या विदेश में मौजूद भारतीय मिशन ने यह जिम्मेदारी निभाई। उन्होंने कहा, ‘‘उन सभी लोगों से जिनसे हमने इस मामले में चर्चा की, कहा कि यह भारत का आंतरिक मामला है और उच्चतम न्यायालय का फैसला है। न्यायालय सर्वोच्च है और इसे इसी संदर्भ में देखा जाना चाहिए।’’ 

इसे भी पढ़ें: अयोध्या में आसमान छूने वाला भव्य राम मंदिर बनेगा: अमित शाह

कुमार ने कहा, ‘‘जहां तक मेरी जानकारी है, हमें कहीं से ऐसी कोई टिप्पणी नहीं मिली जिससे हमें यह सोचना पड़े कि हम इस मामले को उचित तरीके से नहीं समझा पाए। हमारा संवाद बहुत सफल रहा।’’ उल्लेखनीय है कि नौ नवंबर को उच्चतम न्यायालय की पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने अयोध्या में विवादित स्थल राम लला को सौंप दी थी जो तीन पक्षकारों में से एक थे। साथ ही केंद्र सरकार को निर्देश दिया था कि वह मस्जिद बनाने के लिए अयोध्या में ही सुन्नी वक्फ बोर्ड को पांच एकड़ वैकल्पिक जमीन आवंटित करे। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।