फडणवीस बोले- एक दिन भारत का हिस्सा होगा कराची, शिवसेना ने POK को लेकर कसा तंज

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 23, 2020   19:01
फडणवीस बोले- एक दिन भारत का हिस्सा होगा कराची, शिवसेना ने POK को लेकर कसा तंज

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री फडणवीस के बयान के कुछ दिन पहले शिवसेना के एक कार्यकर्ता ने मुंबई में ‘कराची स्वीट्स’ के मालिकों को इसका नाम बदलने को कहा था। उस समय राउत ने कहा था कि ‘कराची स्वीट्स’ का नाम बदलने की मांग शिवसेना का आधिकारिक रूख नहीं है।

मुंबई। शिवसेना के सांसद संजय राउत ने सोमवार को कहा कि कराची को भारत का हिस्सा बनाने की बात करने के पहले पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) को वापस लेना चाहिए। भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए राउत ने यह बात कही। फडणवीस ने कहा है कि उनकी पार्टी पार्टी का मानना है कि कराची एक दिन भारत का हिस्सा होगा। महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री फडणवीस के बयान के कुछ दिन पहले शिवसेना के एक कार्यकर्ता ने मुंबई में ‘कराची स्वीट्स’ के मालिकों को इसका नाम बदलने को कहा था। उस समय राउत ने कहा था कि ‘कराची स्वीट्स’ का नाम बदलने की मांग शिवसेना का आधिकारिक रूख नहीं है। 

इसे भी पढ़ें: पवार के साथ मिलकर सरकार बनाने संबंधी घटना को याद रखने की जरूरत नहीं है: फडणवीस

राउत ने सोमवार को कहा कि शिवसेना कराची को भारत का हिस्सा बनाने का स्वागत करेगी लेकिन साथ ही जोड़ा कि पहले भारत को पीओके लेना चाहिए। ‘कराची स्वीट्स’ का नाम बदलने को लेकर शिवसेना के कार्यकर्ता की मांग के बारे में पूछे जाने पर फडणवीस ने कहा, ‘‘हम अखंड भारत में विश्वास करने वाले लोग हैं और हमारा मानना है कि एक दिन कराची भारत का हिस्सा होगा।’’ महाराष्ट्र के मंत्री और राकांपा नेता नवाब मलिक ने कहा कि अगर भाजपा चाहती है कि भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश मिलकर एक देश हो जाए तो उनकी पार्टी इसका स्वागत करेगी। मलिक ने फोन पर पीटीआई-से कहा, ‘‘अगर बर्लिन की दीवार गिर सकती है तो तीनों देश क्यों नहीं एक हो सकते? अगर भाजपा तीनों देशों को मिलाकर एक देश के तौर पर देखना चाहती है तो हम उसका स्वागत करेंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।