जम्मू-कश्मीर में हेलीकॉप्टर दुर्घटना में जान गंवाने वाले पायलटों के परिवार शोकाकुल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 28, 2019   09:02
जम्मू-कश्मीर में हेलीकॉप्टर दुर्घटना में जान गंवाने वाले पायलटों के परिवार शोकाकुल

जम्मू-कश्मीर में बुधवार को हेलीकॉप्टर दुर्घटना में दो वायुसेना कर्मियों की मौत से चंडीगढ़ और हरियाणा के झज्जर जिले में उनके परिवार के सदस्य शोक में हैं।

चंडीगढ़। जम्मू-कश्मीर में बुधवार को हेलीकॉप्टर दुर्घटना में दो वायुसेना कर्मियों की मौत से चंडीगढ़ और हरियाणा के झज्जर जिले में उनके परिवार के सदस्य शोक में हैं। स्कवॉड्रन लीडर सिद्धार्थ वशिष्ठ (31) सशस्त्र बलों में सेवाएं देने वाले अपने परिवार की चौथी पीढ़ी के सदस्य थे। उनकी पत्नी भी भारतीय वायुसेना में स्क्वॉड्रन लीडर के रूप में सेवाएं दे रही हैं। सिद्धार्थ का परिवार चंडीगढ़ में रहता है। वह 2010 में वायुसेना में शामिल हुए थे और केरल बाढ़ के दौरान बचाव कार्यों में भूमिका के लिये उन्हें बीते महीने प्रशस्ति मिला था।

इसे भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर के बड़गाम में MI-17 हुआ हादसे का शिकार, दोनों पायलट शहीद

बीते साल जुलाई में उन्हें श्रीनगर में तैनात किया गया था और उनकी पत्नी आरती भी वहीं तैनात थीं। सिद्धार्थ के पिता जगदीश कासल ने कहा,  मेरा बेटा यह हेलीकॉप्टर उड़ा रहा था क्योंकि वह मुख्य पायलट था। उसे अपने निकट संबंधी विनीत भारद्वाज से भारतीय वायुसेना में शामिल होने की प्रेरणा मिली थी जो लड़ाकू विमान पायलट थे। वह भी उन्हीं के नक्शेकदम पर चलना चाहता था। विनीत की 17 साल पहले एक दुर्घटना में मौत हो गई थी। 

इसे भी पढ़ें: भारतीय सीमा में घुसे पाकिस्तानी विमान F16 को वायुसेना ने मार गिराया

दुर्घटना में एक अन्य वायुसेना कर्मी विक्रांत सहरावत की भी मौत हो गई। वह झज्जर के बधानी गांव के थे। उनके परिवार में पत्नी और दो बच्चे हैं। इन दो पायलटों के अलावा हेलीकॉप्टर में सवार चार अन्य लोगों की भी मौत हो गई। इसके अलावा दुर्घटना में जम्मू-कश्मीर के बडगाम जिले में एक स्थानीय निवासी की भी मौत हो गई।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।