किसानों ने दिल्ली-हरियाणा सिंघू बॉर्डर पर पथराव किया, बैरीकेड तोड़े

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 27, 2020   16:20
किसानों ने दिल्ली-हरियाणा सिंघू बॉर्डर पर पथराव किया, बैरीकेड तोड़े

केंद्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों को ‘दिल्ली चलो’ मार्च के लिए राष्ट्रीय राजधानी में प्रवेश करने की अनुमति देने से इंकार कर दिया गया जिसके बाद वे सीमा पर अवरोधक के पहले स्तर को तोड़ने में सफल हो गए।

नयी दिल्ली। दिल्ली- हरियाणा सिंघू बॉर्डर पर प्रदर्शनकारी किसानों ने शुक्रवार को पथराव किया और बैरीकेड तोड़ डाले। उनका दिल्ली पुलिस के साथ संघर्ष भी हुआ जिसने उन्हें तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े। केंद्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों को ‘दिल्ली चलो’ मार्च के लिए राष्ट्रीय राजधानी में प्रवेश करने की अनुमति देने से इंकार कर दिया गया जिसके बाद वे सीमा पर अवरोधक के पहले स्तर को तोड़ने में सफल हो गए।

सिंघू सीमा पर प्रदर्शनकारी किसानों को तितर-बितर करने के लिए सुरक्षा बलों ने आंसू गैस के कई राउंड का इस्तेमाल किया जिसके बाद वहां धुएं का गुब्बार देखा गया। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया, ‘‘किसान पथराव में संलिप्त थे। उन्हें अनुमति नहीं दी गई और अगर वे अब भी प्रवेश करते हैं या अवरोधक को पार करने का प्रयास करते हैं तो उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।’’ पंजाब से महानगर में प्रवेश करने के मुख्य मार्गों में से एक सिंघू बॉर्डर पर किसानों को कंटीले तारों के पास पुलिसकर्मियों से बात करते देखा गया। किसानों को रोकने के लिए कई स्तर के अवरोधक लगाए गए हैं जिसमें बालू से लदे ट्रक, पानी की बौछारें आदि शामिल हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।