दिल्ली के अपोलो अस्पताल में कोरोना मरीज की मौत से गुस्साए परिजनों ने की मारपीट

दिल्ली के अपोलो अस्पताल में  कोरोना मरीज की मौत से गुस्साए परिजनों ने की मारपीट

कोरोना वायरस से संक्रमित रोगी के परिवार के सदस्यों ने मंगलवार को दिल्ली के सरिता विहार के अपोलो अस्पताल में डॉक्टरों, नर्सों और अन्य कर्मचारियों पर हमला किया।

कोरोना वायरस से संक्रमित रोगी के परिवार के सदस्यों ने मंगलवार को दिल्ली के सरिता विहार के अपोलो अस्पताल में डॉक्टरों, नर्सों और अन्य कर्मचारियों पर हमला किया। आईसीयू बिस्तर न मिलने से कोरोना मरीज की मौत हो गयी जिसके बाद परिवार के सदस्यों को गुस्सा आ गया और उन्होंने अस्पताल के कर्मचारियों के साथ मारपीट शुरू कर दी।  62 वर्षीय महिला को मंगलवार तड़के अस्पताल लाया गया। वह आईसीयू बिस्तर पाने के लिए आपातकालीन क्षेत्र में इंतजार करती रही लेकिन उसे कोई बिस्तर नहीं मिला, क्योंकि कोई भी उपलब्ध नहीं था। मंगलवार की सुबह उसकी मौत हो गई।

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के गृह मंत्री का दावा, चुनावी राज्यों में सबसे बाद में आई कोरोना की दूसरी लहर 

इस बात से नाराज होकर, उसके परिवार के सदस्यों ने सुबह 9 बजे के आसपास अस्पताल में नर्सों और डॉक्टरों पर हमला किया। घटना के एक वीडियो में, परिवार के सदस्यों को अस्पताल के बाहर लाठी के साथ डॉक्टरों पर हमला करते देखा जा सकता है। संपत्ति को भी नुकसान पहुंचाया गया।

इसे भी पढ़ें: अजमेर दरगाह की विश्राम स्थली को बनाया जाएगा ‘कोरोना केयर सेंटर’ : नकवी  

चैनल से बात करते हुए, डीसीपी साउथ ईस्ट दिल्ली ने कहा कि पुलिस को अस्पताल या मरीज के परिवार से इस संबंध में कोई शिकायत नहीं मिली है। एक बयान में, अपोलो अस्पताल ने कहा कि उन्हें मंगलवार तड़के इमरजेंसी में एक "गंभीर स्थिति" में एक महिला मिली थी। उनकी स्थिति के लिए उपयुक्त चिकित्सा टीम दी गयी थी। बिस्तरों की कमी को देखते हुए, परिवार को सलाह दी गई थी कि वे उपलब्ध बेड के साथ मरीज को किसी अन्य सुविधा में स्थानांतरित करें। दुर्भाग्य से, मरीज की सुबह 8 बजे के आसपास मृत्यु हो गई, जो रोगी के परिवार के सदस्यों की है। बयान में कहा गया, बर्बरता, अस्पताल की संपत्ति को नष्ट करने और हमारे डॉक्टरों और कर्मचारियों पर हमले का सहारा लिया। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।