गोरखपुर के जगदीशपुर गांव में बाढ़ ने तबाही मचाई, दर्जन भर मकान बहे

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 10, 2021   14:43
गोरखपुर के जगदीशपुर गांव में बाढ़ ने तबाही मचाई, दर्जन भर मकान बहे

राप्ती नदी के कटाव के कारण बढ़लगंज प्रखंड के जगदीशपुर गांव में बाढ़ से तबाही का आलम बना हुआ है और करीब दर्जन भर मकान बह गए हैं। गौरतलब है 1998 की बाढ़ के बाद से इस क्षेत्र में लगातार कटाव देखा जा रहा है और अधिकांश आबादी समय बीतने के साथ पहले ही सुरक्षित क्षेत्रों में चली गई थी।

गोरखपुर (उत्तर प्रदेश)। राप्ती नदी के कटाव के कारण बढ़लगंज प्रखंड के जगदीशपुर गांव में बाढ़ से तबाही का आलम बना हुआ है और करीब दर्जन भर मकान बह गए हैं। गौरतलब है कि 1998 की बाढ़ के बाद से इस क्षेत्र में लगातार कटाव देखा जा रहा है और अधिकांश आबादी समय बीतने के साथ पहले ही सुरक्षित क्षेत्रों में चली गई थी। 2011 की जनगणना के अनुसार राप्ती नदी के तट पर स्थित जगदीशपुर गांव में 119 मकान हैं और गांव की आबादी 653 है।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे पर बाइक और ट्रैक्टर बैन,तैनात होंगे मार्शल :हादसों को रोकने के लिए NHAI ने उठाया कदम

नदी के कटाव से विस्थापित हुए लोगों के पुनर्वास के लिए प्रशासन पहले से ही काम कर रहा है और जिलाधिकारी विजय किरण आनंद ने उप जिलाधिकारी को इस काम को जल्दी पूरा करने का निर्देश दिया है।

इसे भी पढ़ें: भाजपा और RSS भाईचारे की भावना को तोड़ने की कर रही कोशिश: जम्मू में गरजे राहुल गांधी

एसडीएम गोला राजेंद्र बहादुर ने बताया कि जगदीशपुर गांव में अधिकांश मकान राप्ती की कटाव की चपेट में आ गए हैं और बुधवार को 12 मकान बाढ़ में बह गए। क्षेत्र के बसपा विधायक विनय शंकर त्रिपाठी ने बताया कि गांव की वर्तमान स्थिति प्रशासन की लगातार लापरवाही का परिणाम है। राप्ती नदी के किनारे बसे जगदीशपुर गांव में कोई मकान नहीं बचा है, एक तटबंध की तत्काल आवश्यकता है क्योंकि क्षेत्र के कई गांव खतरे में हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...