योगी मंत्रीमंडल में जगह ना मिलने पर पूर्व उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने कही ये बात

योगी मंत्रीमंडल में जगह ना मिलने पर पूर्व  उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने कही ये बात

शुक्रवार को लगातार दूसरी बार योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश के सीएम के रूप में शपथ ली। इसके अलावा दो उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य बृजेश पाठक को शपथ दिलाई गई। योगी आदित्यनाथ की शपथ ग्रहण समारोह में पीएम मोदी समेत बीजेपी शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों समेत कई बड़े नेता शामिल हुए।

उत्तर प्रदेश सरकार के पहले कार्यकाल के दौरान उप मुख्यमंत्री रहे दिनेश शर्मा को इस बार कैबिनेट में जगह नहीं मिली है जबकि दूसरे और उप मुख्यमंत्री और बीजेपी का उत्तर प्रदेश में ओबीसी चेहरा माने जाने वाले केशव प्रसाद मौर्य की कुर्सी बरकरार है। योगी 2 सरकार 2.0 में दिनेश शर्मा की जगह दूसरा ब्राह्मण चेहरे बृजेश पाठक को उप मुख्यमंत्री बनाया गया है। दिनेश शर्मा ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया दी है।

उत्तर प्रदेश के पूर्व उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा वर्ष 2024 लोकसभा चुनाव को देखते हुए वह (BJP) को पार्टी को मजबूत बनाने के लिए पूरे समर्पण से काम करेंगे। दिनेश शर्मा ने शपथ लेने वाले मंत्रियों को बधाई देते हुए यह उम्मीद जताई कि उत्तर प्रदेश में पीएम मोदी और योगी के नेतृत्व वाली डबल इंजन सरकार सूबे के लोगों के कल्याण के लिए काम जारी रखेगी।

दिनेश शर्मा ने सूबे में अगला बीजेपी अध्यक्ष बनाए जाने की अटकलों को भी खारिज कर दिया। बता दें कि उत्तर प्रदेश में भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह के कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ लेने के बाद अब यह पद रिक्त हो गया है। बीजेपी के एक वरिष्ठ नेता के अनुसार, जल्द ही नए प्रदेश अध्यक्ष के नाम का ऐलान होने की संभावना है। आपकी जानकारी के लिए बता दें दिनेश शर्मा इस वक्त यूपी विधान परिषद के सदस्य हैं। 

योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश की कमान दूसरी बार संभाली

शुक्रवार को लगातार दूसरी बार योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश के सीएम के रूप में शपथ ली। इसके अलावा दो उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य बृजेश पाठक को शपथ दिलाई गई। योगी आदित्यनाथ की शपथ ग्रहण समारोह में पीएम मोदी समेत बीजेपी शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों समेत कई बड़े नेता शामिल हुए।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।