दिल्ली में मंकीपॉक्स का चौथा मामला, नाइजीरियाई महिला पाई गई संक्रमित, देश में कुल मामले बढ़कर 9 हुए

monkeypox
ANI
अंकित सिंह । Aug 03, 2022 9:25PM
बताया जा रहा है कि महिला को हल्का बुखार था और हाथ में घाव है। इसके बाद उन्हें लोकनायक जयप्रकाश नारायण अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जांच के लिए उनके सैंपल को पुणे भेजा गया। बुधवार को महिला का रिपोर्ट आया है जिसमें वह मंकीपॉक्स से संक्रमित पाई गई है।

देश में लगातार मंकीपॉक्स का खतरा बढ़ता दिखाई दे रहा है। इन सब के बीच दिल्ली में आज चौथा मामला भी सामने आ गया है। आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक 31 साल की नाइजीरियाई महिला दिल्ली में संक्रमित पाई गई है। देश में ऐसी पहली महिला है जो इस बीमारी से संक्रमित पाई गई है। बताया जा रहा है कि महिला को हल्का बुखार था और हाथ में घाव है। इसके बाद उन्हें लोकनायक जयप्रकाश नारायण अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जांच के लिए उनके सैंपल को पुणे भेजा गया। बुधवार को महिला का रिपोर्ट आया है जिसमें वह मंकीपॉक्स से संक्रमित पाई गई है। हालांकि खबर यह भी है कि महिला ने हाल में कोई विदेश यात्रा नहीं की थी।

इसे भी पढ़ें: स्थिति पर नजर रखने के लिए एक कार्यबल गठित, मंकीपॉक्स को लेकर बोले स्वास्थ्य मंत्री- ये कोई नई बीमारी नहीं

आपको बता दें कि इससे पहले भी दिल्ली में मंकीपॉक्स के तीन मामले आ चुके हैं। इनमें से दो नाइजीरियाई नागरिक में पाए गए थे। इस मामले के बाद देश में मंकीपॉक्स के कुल 9 मामले हो गए हैं। दिल्ली में फिलहाल 1 मरीज को छुट्टी दे दी गई है। वहीं केरल में भी एक मरीज को अस्पताल से छुट्टी मिल गई है। हालांकि देश में एक मरीज की मंकीपॉक्स से मौत भी हुई है। आपको बता दें कि मंकीपॉक्स संक्रमण में बुखार हो जाता है और हाथ पर घाव हो जाते हैं।

इसे भी पढ़ें: Monkeypox In India | अब डराने लगा है मंकीपॉक्स! केरल में दर्ज की गयी पहली मौत, राजस्थान-दिल्ली सहित कई राज्यों में नये मामले

दिशानिर्देश जारी

देश में मंकीपॉक्स के बढ़ते मामलों के बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को महामारी से बचने के लिए ‘क्या करें’ और ‘क्या न करें’ से संबंधित एक सूची जारी की। मंत्रालय ने यह भी कहा कि यदि कोई व्यक्ति लंबे समय तक या बार-बार संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आता है, तो वह भी संक्रमित हो सकता है। मंत्रालय ने कहा कि संक्रमण से बचने के लिए संक्रमित व्यक्ति को अन्य व्यक्तियों से दूर रखा जाना चाहिए। इसने कहा कि इसके अलावा हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल, साबुन और पानी से हाथ धोना, मास्क पहनना तथा दस्ताने पहनना कुछ ऐसे उपाय हैं, जिनसे बीमारी से बचा जा सकता है, साथ ही आसपास की जगहों को भी रोगाणुमुक्त किया जाना चाहिए। मंत्रालय ने बताया कि उन लोगों के साथ रुमाल, बिस्तर, कपड़े, तौलिए और अन्य वस्तुएं साझा करने से बचा जाना चाहिए, जो संक्रमित पाए गए हैं। इसने रोगियों और गैर-संक्रमित व्यक्तियों के गंदे कपड़े एक साथ नहीं धोने और सार्वजनिक कार्यक्रमों में जाने से बचने की सलाह भी दी। मंत्रालय ने कहा, संक्रमितों और संदिग्ध रोगियों से भेदभाव नहीं करें। इसके अलावा किसी अफवाह या गलत जानकारी पर विश्वास न करें।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़