कांग्रेस के स्टार प्रचारकों की सूची में फिर नहीं मिली G-23 के बड़े नामों को जगह

G 23
पार्टी की ओर से 40 स्टार प्रचारकों की जो सूची चुनाव आयोग को सौंपी गई है, उनमें सिर्फ मनीष तिवारी और जितिन प्रसाद ऐसे नेता हैं जो उस ‘जी-23’ समूह में शामिल थे, जिसने पिछले साल अगस्त में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखकर कांग्रेस में व्यापक संगठनात्मक बदलाव की पैरवी की थी।
नयी दिल्ली। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के तीसरे चरण के लिए बनाई गई कांग्रेस के स्टार प्रचारकों की सूची में पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और कई अन्य नेताओं के नाम शामिल हैं। हालांकि, ‘जी-23’ के वरिष्ठ नेताओं गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा एवं कपिल सिब्बल को इसमें जगह नहीं मिली नहीं है। सूत्रों के मुताबिक, पार्टी की ओर से 40 स्टार प्रचारकों की जो सूची चुनाव आयोग को सौंपी गई है, उनमें सिर्फ मनीष तिवारी और जितिन प्रसाद ऐसे नेता हैं जो उस ‘जी-23’ समूह में शामिल थे, जिसने पिछले साल अगस्त में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखकर कांग्रेस में व्यापक संगठनात्मक बदलाव की पैरवी की थी। प्रसाद पश्चिम बंगाल के लिए कांग्रेस प्रभारी हैं। इस सूची में आजाद, शर्मा और सिब्बल जैसे वरिष्ठ नेताओं के नाम शामिल नहीं हैं, जो ‘जी- 23’ में शामिल हैं। इससे कुछ दिनों पहले भी पश्चिम बंगाल के लिए कांग्रेस ने स्टार प्रचारकों की जो सूची चुनाव आयोग को सौंपी थी उसमें इन बड़े नामों को स्थान नहीं मिला था। ‘ग्रुप-23’ से जुड़े विवाद और पार्टी में गुटबाजी के आरोपों पर शर्मा ने पिछले दिनों कहा था कि कांग्रेस में कोई अलग-अलग गुट नहीं हैं और पूरी पार्टी सोनिया गांधी की अध्यक्षता में एकजुट है। शर्मा के इस बयान से कुछ दिनों पहले ‘ग्रुप-23’ में शामिल एक और वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने भी कहा था कि वह और उनके साथी आगामी चुनावों में पार्टी के लिए प्रचार करेंगे और कांग्रेस को जीत दिलाना उनकी शीर्ष प्राथमिकता है। 

इसे भी पढ़ें: राजस्थान के उपचुनाव महत्वपूर्ण, कांग्रेस जीतेगी: अजय माकन

स्टार प्रचारकों की इस सूची में सोनिया, मनमोहन सिंह और राहुल गांधी के अलावा कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा, राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नाम शामिल हैं। उल्लेखनीय है कि पश्चिम बंगाल में कांग्रेस वाम दलों और इंडियन सेक्युलर फ्रंट के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ रही है। राज्य में 27 मार्च, एक अप्रैल, छह अप्रैल, दस अप्रैल, 17 अप्रैल, 22 अप्रैल, 26 अप्रैल और 29 अप्रैल को अलग-अलग क्षेत्रों में वोट डाले जाएंगे। प्रदेश में कुल 294 विधानसभा सीटें हैं। मतगणना दो मई को होगी।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़