हार के बाद कांग्रेस में फूट, निशाने पर गांधी-नेहरू परिवार

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: May 24 2019 6:23PM
हार के बाद कांग्रेस में फूट, निशाने पर गांधी-नेहरू परिवार
Image Source: Google

उन्होंने कहा कि गांधी परिवार से आशय केवल व्यक्तियों से नहीं है, यह एक ऐसा कारक है, जिन्होंने पार्टी को हमेशा बांधे रखा है और यह मुकाम उन्होंने कई दशकों में हासिल किया है

हैदराबाद। लोकसभा चुनाव 2019 में कांग्रेस की भारी हार के बाद आलोचकों द्वारा पार्टी नेतृत्व गांधी परिवार से इतर किसी अन्य व्यक्ति को सौंपने की बात कहने के बाद भी एक वरिष्ठ नेता ने शुक्रवार को गांधी परिवार की तारीफ करते हुए कहा कि वह ही पार्टी को बांधे रख सकते हैं। लोकसभा चुनाव में भारी हार के बाद आलोचकों के पार्टी का नेतृत्व दूसरों को सौंपने की बात कहने के बीच चार बार सांसद रहे मैरी शशिधर रेड्डी ने कहा कि केवल गांधी परिवार ने ही पार्टी को बांधे रखा है।

 
राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के उपाध्यक्ष रह चुके रेड्डी ने कहा, ‘‘गांधी परिवार के सदस्यों का उनके पदों से इस्तीफा देना समाधान नहीं है।’’ उन्होंने कहा कि गांधी परिवार से आशय केवल व्यक्तियों से नहीं है, यह एक ऐसा कारक है, जिन्होंने पार्टी को हमेशा बांधे रखा है और यह मुकाम उन्होंने कई दशकों में हासिल किया है और इस बीच जब भी पार्टी की मुख्य बागडोर गांधी सदस्य के हाथ में नहीं रही तो हम बिखरे हैं और नतीजें भी अच्छे नहीं रहे। आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एम चन्ना रेड्डी के बेटे ने कहा, ‘‘ अब लोकसभा में उम्मीदें पूरी नहीं हुईं, इस बार नतीजें हमारे पक्ष में नहीं रहे लेकिन ऐसा नहीं कहा जा सकता की कोई और होता तो अच्छा किया होता।’’


गांधी परिवार के सदस्यों के पार्टी को जोड़े रखने के लिए बेहतर विकल्प होने के सवाल पर उन्होंने कहा, ‘‘ जी हां बिल्कुल।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ अन्य कोई शख्स पार्टी को उस तरह जोड़े नहीं रख सकता जैसे गांधी परिवार ने रखा है।’’ राहुल गांधी के एक नेता के रूप में परिपक्व होने की बात पर जोर देते हुए रेड्डी ने कहा, कांग्रेस अध्यक्ष की नेतृत्व क्षमता पर संदेह नहीं 
 


रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video