'GIFT City में भारत के भविष्य का जुड़ा है विजन', PM मोदी बोले- देश में आ रहा रिकॉर्ड FDI, इन्वेस्टमेंट से पैदा हो रहे नए अवसर

PM Modi
Twitter
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज गिफ्ट सिटी में अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र प्राधिकरण के मुख्यालय भवन का शिलान्यास किया गया है। मुझे विश्वास है, ये भवन अपने आर्किटैक्चर में जितना भव्य होगा, उतना ही भारत को आर्थिक महाशक्ति बनाने के असीमित अवसर भी खड़े करेगा।

अहमदाबाद। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को गांधीनगर में इंडिया इंटरनेशनल बुलियन एक्सचेंज (IIBX) को लॉन्च किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण समेत कई भाजपा पदाधिकारी मौजूद रहे। इसी बीच प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज भारत के बढ़ते आर्थिक सामर्थ्य, बढ़ते तकनीकी सामर्थ्य, और भारत पर विश्व के बढ़ते भरोसे के लिए, ये दिवस बहुत महत्वपूर्ण है, एक अहम दिन है। ऐसे समय में जब भारत अपनी आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है, तब आधुनिक होते भारत के नए संस्थान और नई व्यवस्थाएं भारत का गौरव बढ़ा रही हैं।

इसे भी पढ़ें: तेलंगाना में पूर्ण रूप से फहरेगा भाजपा का परचम ! सिंधिया बोले- पिछले कुछ सालों में PM मोदी के प्रति उमड़ा नया विश्वास 

उन्होंने कहा कि आज गिफ्ट सिटी में अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र प्राधिकरण (IFSCA) के मुख्यालय भवन का शिलान्यास किया गया है। मुझे विश्वास है, ये भवन अपने आर्किटैक्चर में जितना भव्य होगा, उतना ही भारत को आर्थिक महाशक्ति बनाने के असीमित अवसर भी खड़े करेगा। उन्होंने कहा कि भारत अब यूएसए, यूके और सिंगापुर जैसे दुनिया के उन देशों की कतार में खड़ा हो रहा है जहां से ग्लोबल फाइनेंस को दिशा दी जाती है। मैं इस अवसर पर आप सभी को और सभी देशवासियों को अनेक-अनेक बधाई देता हूं।

भारत के भविष्य का विजन

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि गिफ्ट सिटी की परिकल्पना में देश के सामान्य मानवी की आकांक्षाएं जुड़ी हैं। गिफ्ट सिटी में भारत के भविष्य का विजन जुड़ा है, भारत के स्वर्णिम अतीत के सपने भी जुड़े हैं। उन्होंने कहा कि जब मैंने गिफ्ट सिटी की परिकल्पना की थी, तो वो केवल व्यापार, कारोबार या आर्थिक गतिविधियों तक सिमित नहीं था। गिफ्ट सिटी की परिकल्पना में देश के सामान्य मानवी की आकांक्षाएं जुड़ी हैं। गिफ्ट सिटी में भारत के भविष्य का विजन जुड़ा है, भारत के स्वर्णिम अतीत के सपने भी जुड़े हैं।

उन्होंने कहा कि गिफ्ट सिटी व्यापार और तकनीकी के हब के रूप में अपनी मजबूत पहचान बना रहा है। गिफ्ट सिटी वेल्थ और विसडम, दोनों को सेलिब्रेट करता है। मुझे ये देखकर भी अच्छा लगता है कि गिफ्ट सिटी के जरिए भारत, विश्व स्तर पर सर्विस सेक्टर में मजबूत दावेदारी के साथ आगे बढ़ रहा है। 

इसे भी पढ़ें: चीन-पाकिस्तान की क्यों मुरीद हुईं महबूबा मुफ्ती? PM मोदी को दी ये चुनौती 

PM ने 2008 की मंदी का किया जिक्र

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि 2008 में वैश्विक आर्थिक मंदी का दौर था। भारत में भी दुर्भाग्य से उस समय पॉलिसी पैरालिसिस का माहौल था। उस समय गुजरात फिनटेक के संदर्भ में नए और बड़े कदम उठा रहा था। मुझे खुशी है कि वो आइडिया आज इतने आगे बढ़ गया है। उन्होंने कहा कि हमें ये याद रखना होगा कि एक जीवंत फिनटेक सेक्टर का मतलब केवल आसान कारोबारी माहौल, सुधार और नियमों तक ही सीमित नहीं होता। ये अलग अलग क्षेत्रों में काम कर रहे पेशेवरों को एक बेहतर जीवन और नए अवसर देने का माध्यम भी है।

उन्होंने कहा कि गिफ्ट सिटी की एक और खास बात ये है कि यह ट्राइसिटी अप्प्रोच का प्रमुख स्तम्भ है। अहमदाबाद, गांधीनगर और गिफ्ट सिटी तीनों एक दूसरे से सिर्फ 30 मिनट की दूरी पर हैं और तीनों की ही अपनी एक विशेष पहचान है। साथ ही कहा कि अहमदाबाद एक गौरवशाली इतिहास को अपने आप में समेटे हुए है। गांधीनगर प्रशासन, नीति और निर्णयों के केंद्र है। वहीं गिफ्ट सिटी अर्थतन्त्र का प्रमुख केंद्र है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज भारत दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में से एक है। इसलिए भविष्य में जब हमारी अर्थव्यवस्था आज से भी कहीं ज्यादा बड़ी होगी, हमें उसके लिए अभी से तैयार होना होगा। हमें इसके लिए ऐसे संस्थानों चाहिए, जो वैश्विक अर्थव्यवस्था में हमारे आज के और भविष्य के रोल को पूरा कर सके। इंडिया इंटरनेशनल बुलियन एक्सचेंज इसी दिशा में एक कदम है। गोल्ड के लिए भारत के लोगों का प्यार किसी से छिपा नहीं है। सोना भारत में महिलाओं की आर्थिक शक्ति का माध्यम रहा है

इसे भी पढ़ें: खेलों में कोई हारता नहीं, विजेता और भावी विजेता होते हैं: मोदी ने किया शतरंज ओलंपियाड का उद्घाटन 

उन्होंने कहा कि महिलाओं के विशेष स्नेह के कारण सोना हमारे समाज और सांस्कृतिक व्यवस्था का भी उतना ही अहम हिस्सा रहा है। ये एक बड़ी वजह है कि भारत आज सोने-चांदी के क्षेत्र का एक बहुत बड़ा मार्किट है। भारत की पहचान एक बाजार निर्माता की भी होनी चाहिए इंडिया इंटरनेशनल बुलियन एक्सचेंज इसी दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।

उन्होंने कहा कि आज भारत में रिकॉर्ड एफडीआई आ रहा है। ये इन्वेस्टमेंट देश में नए अवसर पैदा कर रहा है। युवाओं की आकांक्षाओं को पूरा कर रहा है। ये हमारे उद्योग को ऊर्जा दे रहा है, हमारी उत्पादकता को बढ़ा रहा है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़