'रात में लड़कियों को बाहर न निकले' वाले बयान पर गोवा के मुख्यमंत्री ने दिया स्पष्टीकरण

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 30, 2021   11:29
'रात में लड़कियों को बाहर न निकले' वाले बयान पर गोवा के मुख्यमंत्री ने दिया स्पष्टीकरण

दो लड़कियों के सामूहिक दुष्कर्म पर अपनी टिप्पणी के लिए आलोचनाओं का सामना कर रहे गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने शुक्रवार को कहा कि उनके बयान के वास्तविक संदर्भ को नहीं समझा गया। उन्होंने कहा कि नाबालिगों की सुरक्षा ‘‘साझा जिम्मेदारी’’ है।

पणजी। दो लड़कियों के सामूहिक दुष्कर्म पर अपनी टिप्पणी के लिए आलोचनाओं का सामना कर रहे गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने शुक्रवार को कहा कि उनके बयान के वास्तविक संदर्भ को नहीं समझा गया। उन्होंने कहा कि नाबालिगों की सुरक्षा ‘‘साझा जिम्मेदारी’’ है। उन्होंने यह भी कहा कि वह घटना से बहुत दुखी हैं और यह सुनिश्चित करेंगे कि मामले में आरोपियों को ‘‘कानून के अनुसार कड़ी से कड़ी सजा’’ मिले।

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस कार्यकर्ता ने खुदकुशी से पहले जारी किया सिद्धू के नाम का ऑडियो, कहा- नहीं हो रही सुनवाई

गौरतलब है कि रविवार को गोवा की राजधानी से करीब 30 किलोमीटर दूर बेनॉलिम बीच पर चार लोगों ने अपने आप को पुलिसकर्मी बताकर दो लड़कियों से कथित तौर पर बलात्कार किया। उन्होंने लड़कियों के साथ आए लड़कों की पिटायी भी की। चारों आरोपियों में से एक सरकारी कर्मचारी है। चारों को गिरफ्तार कर लिया गया है। सावंत ने बुधवार को राज्य विधानसभा में कथित तौर पर कहा था कि माता-पिता को यह आत्ममंथन करने की जरूरत है कि उनके बच्चे रात में इतनी देर तक समुद्र तट पर क्यों थे। उन्होंने कहा था कि अपने बच्चों की सुरक्षा सुनिश्चित करना माता-पिता की जिम्मेदारी है और उन्हें अपने बच्चों खासतौर से नाबालिगों को रात-रात भर बाहर नहीं रहने देना चाहिए। उनकी इस टिप्पणी पर लोगों ने नाराजगी जतायी थी।

इसे भी पढ़ें: देश में कोरोना वायरस के 44,230 नए मामले, 24 घंटे में 555 लोगों की जान गई

शुक्रवार को यहां जारी एक बयान में सावंत ने कहा, ‘‘दुर्भाग्यपूर्ण घटना के बारे में मेरे बयान को संदर्भ से अलग समझा गया। एक जिम्मेदार सरकार के प्रमुख और 14 साल की बेटी के पिता के तौर पर मैं काफी दुखी हूं। इस घटना का दुख बयां नहीं किया जा सकता।’’ मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने कभी कानून द्वारा मुहैया करायी गयी सुरक्षा के अधिकार से इनकार नहीं किया। उन्होंने कहा, ‘‘गोवा पुलिस सच्चे मायनों में एक पेशेवर बल रही है, खासतौर से जब महिलाओं और बच्चों की सुरक्षा की बात आती है। उन्होंने तेजी से कार्रवाई की, आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया तथा मैं आपको आश्वस्त कर दूं कि मैं सुनिश्चित करुंगा कि दोषियों को कानून के तहत कड़ी से कड़ी सजा मिले। हमारे नागरिकों की सुरक्षा हमेशा मेरी सरकार की शीर्ष प्राथमिकता रही है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘बच्चों, खासतौर से नाबालिगों की सुरक्षा साझा जिम्मेदारी है। उन्हें अपने बड़ों के मार्गदर्शन की आवश्यकता होती है।’’

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘जब मैं नाबालिग बच्चों की साझा जिम्मेदारी के बारे में बोलता हूं तो यह चिंता, परवाह और अपने नागरिकों एवं बच्चों के लिए प्यार की वजह से बोलता हूं। हम सभी बच्चों को प्यार करते हैं। मुख्यमंत्री के तौर पर गोवा के सभी बच्चों की मुझे चिंता है।’’ सावंत ने कहा कि बच्चों की सुरक्षा से संबंधित मामलों में कोई समझौता नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा, ‘‘गलतफहमी के लिए कोई जगह मत रखिए। चलिए, एकजुट रहें। एक-दूसरे पर विश्वास करें। आइए, हम एक गोवा के रूप में एकजुट रहे ताकि अपनी ताकत से हम ऐसी बुराइयों को खत्म कर सकें।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।