वैक्सीन लगवाने से भगवान ने किया है मना, टीम को मंदिर ले जाकर बोली एक महिला

वैक्सीन लगवाने से भगवान ने किया है मना, टीम को मंदिर ले जाकर बोली एक महिला

एक महिला टीम पर भड़की और फिर उन्हें लेकर मंदिर ले गई। यहां उसने पहले तो मूर्ति पर हाथ रखकर कह दिया कि मेरे मालिक ने मुझे वैक्सीन लगाने से मना किया है।लेकिन जब टीम वैक्सीन लगाने की मिन्नत करते रही तो वह अधिकारियों के पैरों पर गिर गयी।

भोपाल। मध्य प्रदेश के बैतूल जिले में सोमवार को वैक्सीनेशन महाअभियान चलाया जा रहा था। इस दौरान कुछ गांव में अधिकारियों को खूब मशक्कत करनी पड़ी। कई बार ऐसे मौके भी आये जब लोग वैक्सीन टीम को लेकर मंदिर तक पहुच गए और वहां पहुचकर टीम को बताया कि उन्हें भगवान ने वैक्सीन लगाने से मना किया है।

इसे भी पढ़ें:विधायक रामबाई ने समझाया भ्रष्टाचार का गणित, कहा - आटे में नमक बराबर रिश्वत चलती है

दरअसल बैतूल जिले के आठनेर जनपद के अंबाड़ा पंचायत के नत्थु ढाना का है। जहां एक महिला टीम पर भड़की और फिर उन्हें लेकर मंदिर ले गई। यहां उसने पहले तो मूर्ति पर हाथ रखकर कह दिया कि मेरे मालिक ने मुझे वैक्सीन लगाने से मना किया है।लेकिन जब टीम वैक्सीन लगाने की मिन्नत करते रही तो वह अधिकारियों के पैरों पर गिर गयी।  इन हालातों को देख टीम के होश भी उड़ गए और उन्हें बिना वैक्सीन लगाए बैरंग वापस आना पड़ा।

दरअसल इसका एक वीडियो सामने आया है जिसमें महिला बोल रही है इससे अगर अच्छा होता है तो मैं इंजेक्शन लगाने को तैयार हूं। अगर वैक्सीन इससे बड़ा है तो मैं इंजेक्शन लगाती हूं। मेरे पति को लगाया था उसी का दंड है कि वह बीमार पड़ गया। यह मेरा मालिक मुझे मना कर रहा है। इस वजह से मैं इंजेक्शन नहीं लगा रही हूं। नहीं तो मुझे इंजेक्शन लेने में कोई दिक्कत नहीं। पूरी दुनिया ले रही है तो मुझे भी कोई घाटा नहीं था। पर मेरे को मेरा मालिक मना कर रहा है। नहीं तो मैं तुम्हारे हाथ पर जोड़ती हूं।

इसे भी पढ़ें:खराब सड़क के चलते पलटा ऑटो, बिना ड्राइवर के तेज रफ्तार से बढ़ा आगे 

इसके पहले महिला के घर जब यह टीम पहुंची और उसे समझाना शुरू किया तो उसने टीम से सवाल-जवाब शुरू कर दिए। महिला बोली कि अगर हमको कम ज्यादा हो गया तो इसकी जवाबदारी कौन लेगा मेरी कोई समस्या समझता ही नहीं है ।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।