विधायक रामबाई ने समझाया भ्रष्टाचार का गणित, कहा - आटे में नमक बराबर रिश्वत चलती है

विधायक रामबाई ने समझाया भ्रष्टाचार का गणित, कहा - आटे में नमक बराबर रिश्वत चलती है

उन्होंने कहा कि हजार-पांच सौ की घूस लेना समझ में आता है, लेकिन 10 हजार लेना गलत है। हमें पता है कि सब कुछ 'अंधेर नगरी चौपट राजा' चल रहा है, लेकिन इतना भ्रष्टाचार ठीक नहीं।

भोपाल। मध्य प्रदेश के पथरिया से विधायक रामबाई एक बार फिर अपने दिए गए बयान को लेकर सुर्खियों में आ गई है। रामबाई से दमोह में लोगों ने रिश्वत लिए जाने की शिकायत की तो वे कार्रवाई करने के बजाय पंचायत के आरोपी कर्मचारियों को भ्रष्टाचार का गणित समझाने लगीं। उन्होंने कहा कि आटे में नमक बराबर रिश्वत चलती है।

इसे भी पढ़ें:खराब सड़क के चलते पलटा ऑटो, बिना ड्राइवर के तेज रफ्तार से बढ़ा आगे 

दरअसल विधायक के पास सतऊआ गांव के लोग रोजगार सहायक और सचिव की शिकायत लेकर पहुंचे थे। आरोप था कि PM आवास के नाम पर दोनों हजारों रुपए वसूल रहे हैं। इसके बाद विधायक रविवार शाम सतऊआ पहुंचीं और जनचौपाल लगाई।

वहीं ग्रामीणों ने विधायक के सामने ही सहायक और सचिव पर वसूली के आरोप लगाए। किसी ने 5 हजार, किसी ने 8 हजार से लेकर 10 हजार रुपए तक लेने की बात कही। शिकायत सुन विधायक ने कहा कि थोड़ा बहुत तो चलता है, लेकिन हजारों रुपए किसी गरीब से ले लेना गलत है।

इसे भी पढ़ें:दिग्गी राजा के शिशु मंदिर वाले बयान को राष्ट्रीय बाल आयोग ने लिया संज्ञान, लिखा डीजीपी को पत्र 

उन्होंने कहा कि हजार-पांच सौ की घूस लेना समझ में आता है, लेकिन 10 हजार लेना गलत है। हमें पता है कि सब कुछ 'अंधेर नगरी चौपट राजा' चल रहा है, लेकिन इतना भ्रष्टाचार ठीक नहीं।

इसके बाद विधायक ने कर्मचारियों की शिकायत नहीं ली। उनका कहना था कि कुछ गलती तो ग्रामीणों की भी है। उन्हें जानकारी नहीं होती और बस शिकायत करने लगते हैं। कर्मचारियों से पैसे लेने की बात सामने आई थी। उन्होंने कहा कि ग्रामीणों के पैसे वापस करने के लिए रोजगार सहायक और सचिव से कह दिया है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।