गोरखपुर विश्वविद्यालय में नहीं हो रहा पारदर्शी प्रवेश: शिव शंकर गौड़

गोरखपुर विश्वविद्यालय में नहीं हो रहा पारदर्शी प्रवेश: शिव शंकर गौड़
प्रतिरूप फोटो

सैकड़ों छात्रों के छात्रनेता व प्रदेश सचिव छात्रसभा शिव शंकर गौड़ के नेतृव में नारें बाजी करतें हुए कुलसचिव का घेराव किया गया। शिव शंकर गौड़ ने कहा कि गोरखपुर विश्वविद्यालय प्रशासन प्रवेश के प्रथम दिन से आरक्षण के नियमों का पालन नहीं कर रहा है।

गोरखपुर। गोरखपुर विश्वविद्यालय के संयुक्त प्रवेश में अन्य पिछ्ड़े व अनुसूचित जाति व जनजाति के विद्यार्थियों का प्रवेश जाति प्रमाण पत्र न होने के कारण रोका जा रहा है,जबकि विश्वविद्यालय में विगत वर्षों से जाति व आय प्रमाण पत्र के रिसीविंग के आधार पर प्रवेश किया जाता है। लेकिन जब से संयुक प्रवेश शुभारंभ हुआ है तब से विश्विद्यालय प्रशासन छात्रों के हितों की अनदेखी कर रहा है जिसके विरोध में दीक्षा भवन पर चीफ प्रॉक्टर से तीखी नोकझोंक हुई समाजवादी छात्र सभा के पदाधिकारियों से। सैकड़ों छात्रों के छात्रनेता व प्रदेश सचिव छात्रसभा शिव शंकर गौड़ के नेतृव में नारें बाजी करतें हुए कुलसचिव का घेराव किया गया। 

इसे भी पढ़ें: संकट में दुनिया का हिंदू, सिख, बौद्ध और जैन कहां जाएगा? योगी बोले- भारत उन्हें दोनो हाथ फैलाकर अपना रहा

शिव शंकर गौड़ ने कहा कि गोरखपुर विश्वविद्यालय प्रशासन प्रवेश के प्रथम दिन से आरक्षण के नियमों का पालन नहीं कर रहा है। उन्होंने कहा कि खास करके अन्य पिछड़े वर्ग व अनुसूचित जाति व जनजाति के छात्रों का प्रवेश सरीद पर जाता था लेकिन इस वर्ष प्रवेश में धांधली की जा रहीं है। शिव शंकर गौड़ ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर विश्वविद्यालय प्रशासन नहीं माना तो इससे भी उग्र आंदोलन होगा, जिसकी सारी जिम्मेदारी विश्वविद्यालय की होगी।छात्रनेता सतीश चंद सिंघम व छात्रनेता राहुल यादव ने कहा की विश्वविद्यालय प्रशासन छात्रों के अनहित में कार्य कर रहा है जिससें छात्र व छात्राओं को अनेकों समस्याओं का सामना करना पड़़ रहा है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।