इण्टरनेट / VOIP कॉल कर व्यापारी से 20 लाख की फिरौती मांगने वाले दो आरोपी गिरफ्तार

इण्टरनेट / VOIP कॉल कर व्यापारी से  20 लाख की फिरौती मांगने वाले दो आरोपी गिरफ्तार
प्रतिरूप फोटो

इण्टरनेट / VOIP कॉल कर व्यापारी से 20 लाख की फिरौती मांगने वाले दो अभियुक्त को एसपी क्राइम डॉ महेंद्र पाल सिंह के निर्देशन में , साइबर सेल प्रभारी उपनिरीक्षक महेश चौबे ने गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त किया।

गोरखपुर। इण्टरनेट / VOIP कॉल कर व्यापारी से  20 लाख की फिरौती मांगने वाले दो अभियुक्त को एसपी क्राइम डॉ महेंद्र पाल सिंह के निर्देशन में , साइबर सेल प्रभारी उपनिरीक्षक महेश चौबे ने  गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त किया। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ विपिन ताडा के निर्देशन में पुलिस अधीक्षक अपराध, डॉ महेंद्र पाल सिंह, पुलिस अधीक्षक दक्षिणी अरुण सिंह व क्षेत्राधिकारी अपराध रत्नेश सिंह  के पर्यवेक्षण में सिकरीगंज के व्यवसायी को आनलाइन एप/ वेबसाइट के माध्यम से विदेशी नम्बर से इण्टरनेट / VOIP कॉल कर 20 लाख की फिरौती मांगने व फिरौती की रकम न देने पर जान से मारने की धमकी देने की शिकायत पर अपराधियों की पहचान व रोकथाम हेतु साइबर क्राइम सेल टीम को लगाया गया था। जिसके क्रम में तकनीकी विश्लेषण से इण्टरनेट/ VOIP कॉल कर 20 लाख की फिरौती मांगने वाले दो अभियुक्तगण को साइबर क्राइम सेल व थाना सिकरीगंज की संयुक्त पुलिस टीम द्वारा घटना में प्रयुक्त मोबाइल व सिम के साथ गिरफ्तार किया।

इसे भी पढ़ें: दिलीप कुमार निषाद को बनाया गया उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी का प्रदेश सचिव

अभियुक्त दुर्गेश उर्फ हनुमान शुक्ला पुत्र नरसिंह उर्फ फन्ने शुक्ला ने पूछताछ में बताया कि मेरे गांव के उत्कर्ष उर्फ विपुल कुमार द्वारा मेरे मोबाइल में फेक काल एप डाउनलोड करके कहा कि इससे किसी को गाली/धमकी दोगे तो तुम्हे कोई पकड़ नहीं पायेगा। वहीं अभियुक्त उत्कर्ष उर्फ विपुल पुत्र उमाशंकर ने पूछताछ में बताया कि मेरे गांव के दुर्गेश उर्फ हनुमान शुक्ला मेरे पास आये और कहे कि मुझे एक फर्जी सिम चाहिये गाली/धमकी देनी है जिससे मैं पकड़ में न आऊं तो मैनें कहा कि मेरे पास फर्जी सिम नहीं है, लेकिन मैं एक मोबाइल ऐप डाउनलोड कर दूंगा जिससे तुम किसी को गाली/धमकी दोगे तो तुम्हे कोई पकड़ नही पायेगा। उसके बाद हनुमान ने व्यवसायी को काल करके  20 लाख की फिरौती की मांग की, न देने पर गोली मार कर हत्या करने की धमकी दी। जिसके बाद मैंने इसके मोबाइल से उस ऐप को डिलीट करा दिया। गिरफ्तार करने वालो में थानाध्यक्ष राजेन्द्र मिश्र , साइबर सेल गोरखपुर शामिल रहे। पुलिस अधीक्षक दक्षिणी अरुण कुमार सिंह ने अपने कार्यालय में प्रेस वार्ता कर उपरोक्त जानकारी दी।








नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।