राज्यपाल ने 31वीं सब जूनियर खो-खो प्रतियोगिता का किया शुभारंभ --खेल को खेल भावना के साथ खेलें खिलाड़ीः राज्यपाल

राज्यपाल ने 31वीं सब जूनियर खो-खो प्रतियोगिता का किया शुभारंभ --खेल को खेल भावना के साथ खेलें खिलाड़ीः राज्यपाल

उन्होंने कहा कि खो-खो मिट्टी से जुड़ा खेल है, जिसे बढ़ावा दिए जाने की आवश्यकता है। राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर ने प्रतियोगिता के आयोजन के लिए हिमाचल प्रदेश खो-खो संघ को बधाई देते हुए कहा कि प्रतिस्पर्धा में देश भर की 27 राज्यों की टीमें भाग ले रही हैं।

शिमला  राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर ने आज ऊना के इंदिरा स्टेडियम में 31वीं सब-जूनियर खो-खो प्रतियोगिता का शुभारंभ किया। उन्होंने कहा कि सभी खिलाड़ी खेल भावना बनाए रखें तथा हार से हतोत्साहित होने की आवश्यकता नहीं है। आवश्यक है कि खिलाड़ी प्रतियोगिता में तन व मन लगाकर खेलें।

उन्होंने कहा कि खो-खो मिट्टी से जुड़ा खेल है, जिसे बढ़ावा दिए जाने की आवश्यकता है। राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर ने प्रतियोगिता के आयोजन के लिए हिमाचल प्रदेश खो-खो संघ को बधाई देते हुए कहा कि प्रतिस्पर्धा में देश भर की 27 राज्यों की टीमें भाग ले रही हैं।

इसे भी पढ़ें: हिमाचल सरकार ने कर्मचारियों के लिए नए वेतनमान की घोषणा की --अनुबंध कर्मचारियों के नियमितीकरण की अवधि तीन वर्ष से घटाकर दो वर्ष करने की घोषणा

राज्यपाल ने कहा कि खेल शारीरिक व मानसिक क्षमताओं को बढ़ाते हैं। युवाओं को खेल प्रतिस्पर्धा में भाग लेकर अनुशासन सीखना चाहिए क्योंकि खेल के मैदान के अनुभव जीवन में आगे बढ़ने का सबक बनते हैं। खेल प्रतियोगिता में भाग लेने से बच्चों की प्रतिभा को निखरने का अवसर मिलता है। कार्यक्रम के दौरान राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर ने टोक्यो पैरा-ओलंपिक में रजत पदक जीतने वाले निषाद कुमार को सम्मानित किया। उन्होंने कहा कि निषाद ने मेडल जीतकर पूरे देश का मान बढ़ाया है और आने वाली पीढ़ी उनसे प्रेरणा लेकर खेलों के प्रति प्रोत्साहित होगी।

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री जयराम को भाजपा न हटाए-2022 में जनता खुद हटाएगी-कांग्रेस

इससे पूर्व कार्यक्रम में उपस्थित छठे राज्य वित्तायोग के अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती ने कहा कि हिमाचल प्रदेश एक शांत राज्य है, जो अपने अतिथि सत्कार के लिए प्रसिद्ध है तथा यहां के निवासी मृदुभाषी एवं मिलनसार हैं। उन्होंने कहा कि ऊना की धरती ने अनेकों महान खिलाड़ी दिए हैं। हाॅकी में पद्मश्री चरणजीत सिंह व दीपक ठाकुर ऊना से ही हैं। अभी हाल ही में टोक्यो पैरा-ओलंपिक में निषाद कुमार ने भी रजत पदक जीतकर देश का मान बढ़ाया है। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश को वीरभूमि भी कहा जाता है क्योंकि देश का पहला परमवीर चक्र हिमाचल प्रदेश के वीर सपूत मेजर सोमनाथ शर्मा ने जीता था।

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री ने कैप्टन राम सिंह ठाकुर पर लिखित राजेंद्र राजन की किताब का विमोचन किया

इससे पूर्व हिमाचल प्रदेश खो-खो संघ के चेयरमैन राकेश ठाकुर ने राज्यपाल तथा सभी अतिथियों का स्वागत किया। इस अवसर पर ग्रामीण विकास, पंचायती राज, कृषि, मत्स्य तथा पशु पालन मंत्री वीरेंद्र कंवर, एचपीएसआईडीसी उपाध्यक्ष प्रो. राम कुमार, राज्य अध्यक्ष अभिषेक ठाकुर, खो-खो फेडरेशन इंडिया के महासचिव एम.एस. त्यागी, सहित विभिन्न खो-खो संघों के पदाधिकारी, जिला परिषद अध्यक्ष नीलम कुमारी, उपाध्यक्ष कृष्ण पाल शर्मा, उपायुक्त राघव शर्मा तथा एस.पी. अर्जित सेन ठाकुर सहित अन्य गणमान्य उपस्थित रहे।

इसे भी पढ़ें: ज्वालामुखी में काल भैरव अष्टमी धर्मिक श्रद्धा एवं उल्लास के साथ मनाई गई

प्रतियोगिता में 612 खिलाड़ी भाग ले रहे हैं। लड़कों के वर्ग में पहला मैच गोवा व छत्तीसगढ़ की टीम के बीच खेला गया, जबकि लड़कियों के वर्ग में पहला मुकाबला कोल्हापुर तथा केरल के बीच हुआ। राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर ने खिलाडि़यों का उत्साहवर्द्धन किया और उन्हें मैच के लिए शुभकामनाएं दी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...