दिल्ली से लगी हरियाणा की सीमा बंद की गयी, आवश्यक सेवाओं को अनुमति दी जाएगी: अनिल विज

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 28, 2020   19:37
दिल्ली से लगी हरियाणा की सीमा बंद की गयी, आवश्यक सेवाओं को अनुमति दी जाएगी: अनिल विज

विज ने बताया कि आवश्यक सेवाओं और उनसे जुड़े लोगों को केंद्रीय गृह मंत्रालय के दिशा-निर्देशों के अनुसार सीमाओं को पार करने की अनुमति दी जाएगी। गत 25 मार्च को लॉकडाउन लागू होने के बाद राज्य सरकार ने वाहनों और लोगों के सीमा पार करने पर प्रतिबंध लगा दिया है।

गुरुग्राम। हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने मंगलवार को कहा कि दिल्ली से लगी राज्य की सीमाओं को बंद कर दिया गया है, लेकिन आवश्यक सेवाओं के लिए अनुमति दी जाएगी। हालांकि, राष्ट्रीय राजधानी से आने वाले लोगों पर सख्त प्रतिबंध होंगे। विज ने कहा कि जहां तक कोविड-19 मामलों का संबंध है, अगर सीमाएं 15-20 दिनों तक बंद रहीं तो हरियाणा अच्छी स्थिति में रहेगा। विज राज्य के स्वास्थ्य मंत्री भी हैं। गुरुग्राम और फरीदाबाद राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र का हिस्सा हैं। उन्होंने कहा, ‘‘राज्य की सीमाओं को सील कर दिया गया है… आवश्यक सेवाओं के लिए अनुमति दी जाएगी। अगर हरियाणा की सभी सीमाएं 15-20 दिनों के लिए बंद कर दी जाती हैं, तो राज्य अच्छी स्थिति (कोरोना वायरस के खतरे के लिहाज से) में होगा।’’

विज ने बताया कि आवश्यक सेवाओं और उनसे जुड़े लोगों को केंद्रीय गृह मंत्रालय के दिशा-निर्देशों के अनुसार सीमाओं को पार करने की अनुमति दी जाएगी। गत 25 मार्च को लॉकडाउन लागू होने के बाद राज्य सरकार ने वाहनों और लोगों के सीमा पार करने पर प्रतिबंध लगा दिया है। उन्होंने कहा, प्रतिबंध और सख्त होंगे। विज ने कहा, ‘‘ज्यादातर वे लोग संक्रमित हो रहे हैं, जो दिल्ली में काम करते हैं और हरियाणा में रहते हैं तथा जो लोग उनके संपर्क में आते हैं। हरियाणा में उनके कारण मामले बढ़ रहे हैं।’’ उन्होंने कहा कि अरविंद केजरीवाल सरकार को दिल्ली सरकार के उन कर्मचारियों के ठहरने के लिए उचित व्यवस्था करनी चाहिए, जो काम राष्ट्रीय राजधानी में करते हैं लेकिन हरियाणा में रहते हैं। 

इसे भी पढ़ें: हरियाणा पुलिस की अपील, लॉकडाउन के दौरान साइबर अपराधियों से रहें सावधान

विज ने कहा, यह दिल्ली सरकार की जिम्मेदारी है कि वह उनके रहने और खाने की व्यवस्था करे और उनका परीक्षण भी कराए। यदि वे संक्रमित हैं, तो उनका इलाज भी कराए।’’ उन्होंने कहा कि यही बात हरियाणा सरकार के कर्मचारियों के लिए भी है, जो पड़ोसी राज्य से काम करने के लिए आते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘उनके ठहरने और भोजन की आवश्यक व्यवस्था करना हमारी जिम्मेदारी है। यह पूछे जाने पर कि क्या लॉकडाउन तीन मई को हटा दिया जाना चाहिए, उन्होंने कहा कि उनका व्यक्तिगत मत है कि इसे बढ़ाया जाना चाहिए। उन्होंने रेखांकित किया कि राज्य में कोविड​​-19 की स्थिति नियंत्रण में है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार हरियाणा में कोरोना वायरस के अब तक 296 मामले सामने आए हैं और तीन लोगों की मौत हुयी है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।