हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज को अस्पताल से मिली छुट्टी, अब अपने आवास पर ऑक्सीजन सपोर्ट पर रहेंगे

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 30, 2020   17:19
हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज को अस्पताल से मिली छुट्टी, अब अपने आवास पर ऑक्सीजन सपोर्ट पर रहेंगे

एक हफ्ते पहले गृह मंत्री अनिल विज ने ट्वीट किया था, ‘‘ईश्वर की असीम कृपा, डॉक्टरों की दिन-रात की मेहनत और आपकी प्रार्थनाओं की वजह से मुझे आईसीयू से एक कमरे में स्थानांतरित किया गया है। आप सभी को धन्यवाद।’’

चंडीगढ़। हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज को बुधवार को गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। उनका यहां पर कोविड-19 का इलाज चल रहा था। भाजपा के वरिष्ठ नेता 67 वर्षीय विज अब अंबाला स्थित अपने आवास पर ऑक्सीजन सपोर्ट पर रहेंगे। यह जानकारी उन्होंने खुद ट्वीट कर दी। गत कुछ दिनों से विज की सेहत में सुधार देखा गया है। उन्हें 15 दिसंबर को मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया था। विज ने एक हफ्ते पहले ट्वीट कर कहा था, ‘‘ईश्वर की असीम कृपा, डॉक्टरों की दिन-रात की मेहनत और आपकी प्रार्थनाओं की वजह से मुझे आईसीयू से एक कमरे में स्थानांतरित किया गया है। आप सभी को धन्यवाद।’’ 

इसे भी पढ़ें: कोरोना वायरस के नए स्वरूप को लेकर अधिक सतर्कता बरती जाए: योगी 

गौरतलब है कि उनके पास हरियाणा के स्वास्थ्य विभाग का भी प्रभार है। अंबाला कैंट से भाजपा विधायक विज के पांच दिसंबर को कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई थी। शुरुआत मेंउन्हें अंबाला के ही सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया था बाद में उन्हें पीजीआईएमएस रोहतक में भर्ती कराया गया जहां से उन्हें मेदांता स्थानांतरित किया गया था। विज ने कोवाक्सिन के तीसरे चरण के परीक्षण में स्वयं पहले स्वयंसेवक के तौर पर टीका लगवाया था। कोवैक्सिन को कोविड-19 के खिलाफ भारत बायोटेक ने विकसित किया है। उन्हें अंबाला छावनी स्थित सिविल अस्पताल में 20 नवंबर को टीके की खुराक लगाई गई थी। 

इसे भी पढ़ें: राजस्थान के लिए ऐसा रहा साल 2020, अशोक गहलोत को करना पड़ा दोहरी चुनौती का सामना 

भारत बायोटेक ने कहा था कि चिकित्सकीय परीक्षण के दौरान 28 दिनों में टीके की दो खुराक दी जानी है और दूसरी खुराक देने के दो हफ्ते बाद बीमारी से लड़ने की क्षमता विकसित होती है। इस मामले में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी कहा कि कोवैक्सिन दो खुराक का टीका है और विज को जांच से महज कुछ समय पहले पहली खुराक दी गई थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।