HC ने केंद्र को दिल्ली में पीएसए ऑक्सीजन संयंत्रों की शीघ्र स्थापना करने का निर्देश दिया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 29, 2021   21:15
HC ने केंद्र को दिल्ली में पीएसए ऑक्सीजन संयंत्रों की शीघ्र स्थापना करने का निर्देश दिया

दिल्ली उच्च न्यायालय ने बृहस्पतिवार को केंद्र को निर्देश दिया कि राष्ट्रीय राजधानी में कोविड के मामलों में तेजी से हुयी वृद्धि से पैदा हुए संकट के मद्देनजर शेष चार पीएसए ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्रों की स्थापना में तेजी लाए।

नयी दिल्ली। दिल्ली उच्च न्यायालय ने बृहस्पतिवार को केंद्र को निर्देश दिया कि राष्ट्रीय राजधानी में कोविड के मामलों में तेजी से हुयी वृद्धि से पैदा हुए संकट के मद्देनजर शेष चार पीएसए ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्रों की स्थापना में तेजी लाए। न्यायमूर्ति विपिन सांघी और न्यायमूर्ति रेखा पल्ली की पीठ ने केंद्र को यह निर्देश जारी किया। इससे पहले दिल्ली सरकार ने अदालत से कहा कि केंद्र सरकार ने शहर में आठ पीएसए (प्रेशर स्विंग ऐड्सॉर्प्शन) चिकित्सीय ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र स्थापित करने के लिए दो विक्रेताओं को मंजूरी दी है।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली के दो अस्पतालों ने की ऑक्सीजन की मांग, कहा- कुछ घंटों की बची है ऑक्सीजन

दिल्ली सरकार ने कहा कि एक विक्रेता से अब संपर्क नहीं हो पा रहा है जबकि दूसरे को केंद्र ने दूसरे स्थान पर भेजा है और इसलिए अब तक केवल दो पीएसए संयंत्र ही स्थापित किए गए हैं। पीठ ने दिल्ली सरकार को निर्देश दिया कि वह डीआरडीओ से उसकी ‘‘विमान में ऑक्सीजन उत्पादन प्रणाली’ के संबंध में अनुरोध करने के लिए तत्काल कदम उठाए। इस प्रणाली का उपयोग हवाई जहाजों में किया जाता है और इसे अस्पतालों में भी लगाया जा सकता है ताकि चिकित्सीय ऑक्सीजन का उत्पादन हो सके। इससे पहले अदालत को सूचित किया गया कि उत्तर प्रदेश सरकार ने पहले ही इस प्रणाली के लिए अनुरोध किया है जिसमें प्रति मिनट 1000 लीटर ऑक्सीजन का उत्पादन हो सकता है।

इसे भी पढ़ें: केरल में एक बार फिर विजय की ओर विजयन ! एग्जिट पोल में यूडीएफ को झटका

अदालत ने कहा कि ऐसे उपायों से दिल्ली में ऑक्सीजन उत्पादन क्षमता को बढ़ाने में मदद मिलेगी जो जीवन रक्षक गैस की कमी का सामना कर रही है। अदालत ने दिल्ली के अस्पतालों को ऑक्सीजन की आपूर्ति करने वाली कंपनियों को भी नोटिस जारी किया और उन्हें शुक्रवार को सुनवाई के दौरान उपस्थित रहने को कहा। अदालत ने उन्हें अस्पतालों में आपूर्ति की जाने वाली ऑक्सीजन के संबंध में विस्तृत आंकड़े तैयार रखने का निर्देश दिया। इससे पहले अदालत ने केंद्र से सवाल किया कि मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र को मांग से ज्यादा ऑक्सीजन क्यों दी जा रही है जबकि दिल्ली का आवंटन आम आदमी पार्टी की सरकार के आग्रह के हिसाब से बढ़ाया नहीं गया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।