सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई, जुमे पर ज्ञानवापी मस्जिद में नमाजियों की भीड़ बढ़ी, गेट करना पड़ा बंद

 Gyanvapi Masjid
Creative Common
अभिनय आकाश । May 20, 2022 12:48PM
आज शुक्रवार का दिन है और ज्ञानवापी मस्जिद में नमाजियों की काफी भीड़ देखने को मिली। पहले वहां 30 लोगों के नमाज पढ़ने की जानकारी थी, लेकिन अब कहा जा रहा है कि मस्जिद में 700 नमाजी पहुंचे हैं। ज्ञानवापी से ऐलान किया जा रहा है कि नमाजी दूसरे मस्जिद में जाएं।

ज्ञानवापी मस्जिद मामले में सुप्रीम कोर्ट आज फिर से सुनवाई करेगा। ज्ञानवापी मस्जिद सर्वेक्षण पर सहायक न्यायालय आयुक्त अजय प्रताप सिंह ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट आज दोपहर 3 बजे ज्ञानवापी मामले की सुनवाई करेगा। मैंने सुना है कि अदालत में प्रस्तुत सर्वेक्षण रिपोर्ट लीक हो गई थी। मैं नहीं कह सकता कि यह कैसे हुआ। वहीं सुनवाई से ठीक पहले हिंदू पक्ष ने जवाब दाखिल करते हुए दावा किया है कि हिंदू सदियों से उसी स्थल पर अपनी रीतियों का पालन कर रहे हैं। परिक्रमा कर रहे हैं। औरंगजेब ने कोई वक्फ नहीं स्थापित किया था। विवादित जगह मस्जिद नहीं है। 

इसे भी पढ़ें: ओवैसी ने ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट लीक होने पर खड़े किये सवाल, श्री कृष्ण जन्मस्थान को लेकर कही ये बात

जुमे पर नमाजियों की भीड़ बढ़ी

आज शुक्रवार का दिन है और ज्ञानवापी मस्जिद में नमाजियों की काफी भीड़ देखने को मिली। पहले वहां 30 लोगों के नमाज पढ़ने की जानकारी थी, लेकिन अब कहा जा रहा है कि मस्जिद में 700 नमाजी पहुंचे हैं। ज्ञानवापी से ऐलान किया जा रहा है कि नमाजी दूसरे मस्जिद में जाएं। इसके साथ ही वजूखाना सील होने की वजह से नमाजियों से कहा गया है कि वे घर से वजू करके आएं।  मस्जिद के बाहर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। ज्ञानवापी मस्जिद का गेट बंद कर दिया गया है।  

सुप्रीम कोर्ट में 3 बजे सुनवाई

ज्ञानवापी मामले में आज सुप्रीम कोर्ट में तीन बजे सुनवाई होगी। मुस्लिम पक्ष की तरफ से वाराणसी कोर्ट द्वारा सर्वे कराए जाने का विरोध करते हुए याचिका दायर की गई है। इसका हिंदू पक्ष ने विरोध किया है। मामले पर कल सुनवाई हुई थी, जिसमें हिंदू पक्ष की तरफ से जवाब दाखिल करने के लिए और वक्त मांगा गया था। अब ये हलफनामा दायर हो चुका है।  

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़