कर्नाटक: घोड़े की अंतिम यात्रा में जुटे सैकड़ों लोग, उड़ाई गई कोरोना प्रोटोकॉल की धज्जियां, पूरा गांव सील

कर्नाटक: घोड़े की अंतिम यात्रा में जुटे सैकड़ों लोग, उड़ाई गई कोरोना प्रोटोकॉल की धज्जियां, पूरा गांव सील

घोड़े की अंतिम यात्रा में एकत्रित हुए। आपको बता दें कि कोरोना वायरस का ग्राफ कर्नाटक में हर रोज बढ़ रहा है। अब तक हजारों लोगों की जान कोरोना वायरस की वजह से जा चुकी है। फिर भी इस तरह की चीजें कहीं ना समझ से परे है।

कोरोना संकटकाल में अजीब गरीब किस्से सामने आ रहे है। एक ऐसा ही मामला कर्नाटक से सामने आया है जहां घोड़े की अंतिम यात्रा में सैकड़ों लोगों की भीड़ जुट गई। बेलगावी जिले के एक गांव में अपनी जान की परवाह ना करते हुए लोगों ने लॉकडाउन के नियमों की जमकर धज्जियां उड़ाई। घोड़े की अंतिम यात्रा में एकत्रित हुए। आपको बता दें कि कोरोना वायरस का ग्राफ कर्नाटक में हर रोज बढ़ रहा है। अब तक हजारों लोगों की जान कोरोना वायरस की वजह से जा चुकी है। फिर भी इस तरह की चीजें कहीं ना समझ से परे है।

इस अंतिम यात्रा का वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ। वीडियो वायरल होने के बाद प्रशासन हरकत में आया। घटना के क्षेत्र के आसपास के लगभग 400 घरों को सील कर दिया गया है। गांव के निवासियों का फिलहाल कोरोना वायरस की जांच भी करवाई जा रही है। ग्रामीणों का कहना है कि यह घोड़ा दिव्य है इसलिए घोड़े की विदाई में बड़ी संख्या में लोग उमड़ पड़े। घोड़े की अंतिम यात्रा में कई गाड़ियों का काफिला भी निकला। बड़ी संख्या में लोग घोड़े के साथ अंतिम यात्रा में चलते हुए दिखाई दे रहे थे।

इसे भी पढ़ें: कर्नाटक में फिर से शुरू होगा 18-44 आयु वर्ग का टीकाकरण, तैयार की गई योजना

कर्नाटक में एक दिन में कोविड-19 से ठीक होने वालों की संख्या संक्रमण के नए मामलों की संख्या से अधिक रहने की प्रवृत्ति जारी है, क्योंकि राज्य में सोमवार को 57,333 लोग बीमारी से ठीक हुए और 25,311 नए मामले सामने आए। स्वास्थ्य विभाग ने यह जानकारी दी। राज्य में आज संक्रमण से 529 और मौतें हुईं, जिससे मृतकों की संख्या बढ़कर 25,811 हो गयी, जबकि राज्य में संक्रमण के कुल मामलों की संख्या 24,50,215 है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।