घर में जबरन घुसे छात्रों के खिलाफ पुलिस में शिकायत नहीं करुंगा: JNU VC

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 26, 2019   12:41
घर में जबरन घुसे छात्रों के खिलाफ पुलिस में शिकायत नहीं करुंगा: JNU VC

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के कुलपति एम जगदीश कुमार ने कहा कि बीती रात जेएनयू में मेरे आवास के सामने छात्रों का हिंसक व्यवहार निंदनीय है लेकिन ना तो मैं और ना ही मेरी पत्नी छात्रों के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराएंगे।

नयी दिल्ली। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के कुलपति एम जगदीश कुमार ने कुछ छात्रों पर जबरन घर में घुसने और उनकी पत्नी को बंधक बनाने का आरोप लगाने के एक दिन बाद मंगलवार को कहा कि उन्होंने छात्रों को ‘‘माफ’’ कर दिया है और वह पुलिस में शिकायत दर्ज नहीं कराएंगे। कुमार ने कहा कि बीती रात जेएनयू में मेरे आवास के सामने छात्रों का हिंसक व्यवहार निंदनीय है लेकिन ना तो मैं और ना ही मेरी पत्नी छात्रों के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराएंगे। हमने उन्हें माफ कर दिया है। उन्हें शुभकामनाएं देते हैं और उम्मीद करते हैं कि वे सुधरेंगे और भविष्य में ऐसी हरकतें नहीं दोहराएंगे।

इसे भी पढ़ें: फिर विवादों में आया JNU, कुलपति ने छात्रों पर लगाया जबरदस्ती घर में घुसने का आरोप

बहरहाल, जवाहरलाल नेहरू छात्र संघ (जेएनयूएसयू) ने कुमार के आरोपों को खारिज कर दिया है। उसने कहा कि जेएनयूएसयू कुलपति एम जगदीश कुमार द्वारा फैलाए जा रहे झूठ को सिरे से खारिज करता है। जेएनयूएसयू का छात्र समूह सोमवार को कुलपति के आवास पर इंतजार करने के बाद प्रदर्शन स्थल पर लौट आया जहां अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल चल रही है। वाम छात्र इकाई के एक छात्र ने आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि छात्रों का एक समूह कुलपति से मिलने गया था लेकिन सुरक्षा कर्मियों ने छात्रों के साथ कथित तौर पर धक्कामुक्की की। 

इसे भी पढ़ें: मुफ्ती पर विवादित ट्वीट के बाद JNU की महिला प्रोफेसर पर हो सकती है कार्रवाई

गौरतलब है कि इस अकादमिक सत्र से लागू होने वाली प्रवेश परीक्षा की ऑनलाइन व्यवस्था के खिलाफ परिसर में सात छात्र भूख हड़ताल पर बैठे हैं। पुलिस ने बताया कि परिसर में स्थिति नियंत्रण में है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।