भाजपा में टिकट को लेकर जारी है तकरार ! बेटे मयंक के लिए इस्तीफा देने को तैयार हैं रीता बहुगुणा जोशी

भाजपा में टिकट को लेकर जारी है तकरार ! बेटे मयंक के लिए इस्तीफा देने को तैयार हैं रीता बहुगुणा जोशी
प्रतिरूप फोटो

भाजपा सांसद रीता बहुगुणा जोशी ने कहा कि मेरा बेटा 12 साल से पार्टी के लिए काम कर रहा है और उसने टिकट के लिए आवेदन किया है। ऐसे में अगर पार्टी प्रति परिवार केवल एक व्यक्ति को टिकट देने का फैसला करती है तो मयंक को टिकट मिलने पर मैं अपनी वर्तमान लोकसभा सीट से इस्तीफा दे दूंगी।

प्रयागराज। उत्तर प्रदेश समेत पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले घमासान मचा हुआ है। राजनीतिक दलों में आयाराम-नयाराम की राजनीति चल रही है। इसी बीच भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सांसद रीता बहुगुणा जोशी ने साफ कर दिया है कि वो अपने बेटे मयंक के लिए इस्तीफा देने को तैयार हैं। कहा जा रहा है कि रीता बहुगुणा जोशी पार्टी से नाराज चल रही हैं और वो अपने बेटे के लिए टिकट चाहती हैं। 

इसे भी पढ़ें: भाजपा से टिकट की चाहत रखने वाली बहू अपर्णा को शिवपाल की नसीहत, बोले- सपा में ही रहें और काम करें 

बेटे के लिए सांसदी छोड़ने को तैयार

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, भाजपा सांसद रीता बहुगुणा जोशी ने कहा कि मेरा बेटा 12 साल से पार्टी के लिए काम कर रहा है। वह 2009 से पार्टी के साथ है और उसने टिकट (लखनऊ कैंट) के लिए आवेदन किया है। ऐसे में अगर पार्टी प्रति परिवार केवल एक व्यक्ति को टिकट देने का फैसला करती है तो मयंक को टिकट मिलने पर मैं अपनी वर्तमान लोकसभा सीट से इस्तीफा दे दूंगी।

उन्होंने कहा कि मैं यह प्रस्ताव भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा को भेजा था। उन्होंने कहा कि मैं हमेशा भाजपा के लिए काम करती रहूंगी। पार्टी मेरे प्रस्ताव को स्वीकार करने या फिर न करने का विकल्प चुन सकती है। मैंने कई साल पहले घोषणा कर दी थी कि मैं चुनाव नहीं लडूंगी। 

इसे भी पढ़ें: यूपी चुनाव में भाजपा सहित सभी दलों ने दलितों-पिछड़ों पर लगाया है बड़ा दांव 

किसको मिलेगी लखनऊ कैंट सीट

आपको बता दें कि प्रयागराज से सांसद रीता बहुगुणा जोशी अपने बेटे मयंक को लखनऊ कैंट से विधानसभा चुनाव में उतारना चाहती हैं। वह खुद इस सीट से दो बार विधायक रह चुकी हैं। वहीं दूसरी तरफ खबरें हैं कि समाजवादी पार्टी के पूर्व अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव की बहू अपर्णा यादव भी भाजपा से लखनऊ कैंट सीट की मांग कर रही हैं। उनके पिता पहले ही भाजपा में शामिल हो चुके हैं और वह पिछली बार लखनऊ कैंट सीट से समाजवादी पार्टी की टिकट पर चुनाव लड़ चुकी हैं लेकिन उन्हें हार का सामना करना पड़ा था।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।