बंगाल की सियासत में मची खलबली, ममता 'दीदी' के नेता ने दिया '4-4 पाकिस्तान' वाला विवादित बयान

बंगाल की सियासत में मची खलबली, ममता 'दीदी' के नेता ने दिया '4-4 पाकिस्तान' वाला विवादित बयान

तृणमूल कांग्रेस नेता शेख आलम ने कहा कि हम 30 फीसदी अल्पसंख्यक अगर एकत्रित हो गए तो 4-4 पाकिस्तान बना देंगे। हालांकि मामला बढ़ता देख शेख आलम ने अपने बयान को लेकर माफी मांग ली है।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में चुनावी प्रचार प्रसार जोरो-शोरो से जारी है। इसी क्रम में राजनीतिक दल एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप की राजनीति करने से चूकते नहीं है। ऐसे में तृणमूल कांग्रेस नेता शेख आलम के एक विवादित ने बंगाल की सियासत में खलबली मचा दी है। इतना ही नहीं शेख आलम के बयान ने भाजपा को एक मुद्दा भी दे दिया है, तृणमूल प्रमुख ममता 'दीदी' को घेरने का। 

इसे भी पढ़ें: चुनाव से पहले वायरल हुआ बंगाली गीत, निर्माताओं ने कहा- विभाजनकारी राजनीति नहीं होने देंगे 

शेख आलम ने क्या कुछ कहा ?

तृणमूल कांग्रेस नेता शेख आलम ने कहा कि हम 30 फीसदी अल्पसंख्यक अगर एकत्रित हो गए तो 4-4 पाकिस्तान बना देंगे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक शेख आलम ने कहा कि हम 30 फीसदी अल्पसंख्यक हैं और वो 70 फीसदी। अगर पूरे हिन्दुस्तान में हम 30 फीसदी एकत्रित हो गए तो हम चार-चार पाकिस्तान बना सकते हैं। ऐसे में 70 फीसदी कहां जाएंगे ? हालांकि मामला बढ़ता देख शेख आलम ने अपने बयान को लेकर माफी मांग ली है।

अमित मालवीय ने घेरा

भाजपा आईटी सेल प्रमुख अमित मालवीय ने शेख आलम का वीडियो ट्वीट करते हुए ममता बनर्जी पर निशाना साधा और उनके 4-4 पाकिस्तान बनाने वाले बयान पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि शेख आलम की निष्ठा ममता बनर्जी के प्रति है। क्या वह इसका समर्थन करती हैं ? क्या हम ऐसा बंगाल चाहते हैं ? प्राप्त जानकारी के मुताबिक भाजपा तृणमूल कांग्रेस नेता के विवादित बयान को चुनाव आयोग के संज्ञान में ला सकती है।

इसे भी पढ़ें: दस वर्षों में कोई विकास नहीं हुआ, ममता बंगाल को 19वीं सदी में ले गईं: राजनाथ 

तृणमूल ने किनारा किया

शेख आलम के विवादित बयान पर तृणमूल कांग्रेस का भी बयान सामने आया। अंग्रेजी समाचार पत्र 'द टाइम्स ऑफ इंडिया' के मुताबिक तृणमूल कांग्रेस के बीरभूल जिला अध्यक्ष अनुब्रत मंडल ने बताया कि शेख आलम का सांप्रदायिक बयान पार्टी की विचारधारा को नहीं दर्शाता है। वह पार्टी में किसी भी पद पर नहीं है। मैंने कंटेंट को नहीं देखा है लेकिन मैं उनके भाषण को जरूर सुनूंगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।